विजेट आपके ब्लॉग पर

Monday, October 31, 2016

रूसी उपन्यास "आझकल के हीरो" ; भाग-2 ; 3. भाग्यवादी - अध्याय-2



रूसी उपन्यास – “आझकल के हीरो”
भाग-2
3. भाग्यवादी - अध्याय-2

हम उपनगर के सूनसान गल्ली से घर वापिस आ रहलिए हल । पूरा आउ लाल चान, आग के लाली नियन, घरवन के दाँतेदार (jagged) क्षितिज के पीछू से प्रकट होब करऽ हलइ । तरिंगन सब शांतिपूर्वक गहरा नीला मेहराब (आकाश) पर चमक रहले हल, आउ हमरा ई बात हास्यास्पद लगलइ, जब हमरा आद पड़लइ, कि कभी तो संत लोग हलथिन, जिनकर सोच हलइ, कि खगोलीय पिंड हमन्हीं के जमीन के मामले में, चाहे कइसनो कृत्रिम अधिकार के मामले में कोय क्षुद्र विवाद (trivial conflicts) में हिस्सा ले हथिन ! ... आउ की होलइ ? ई दीपक सब, जेकरा जलावल गेले हल, उनकन्हीं (संत लोग) के मतानुसार, खाली ई लगी, कि ओकन्हीं के युद्ध आउ विजय के प्रकाशित करइ, पहिलौके चमक के साथ जल्लऽ हइ, आउ ओकन्हीं के वासना आउ आशा ओकन्हीं के साथे बहुत पहिलहीं बुत गेलइ, जइसे कि एगो बेफिकर राही द्वारा जंगल के किनारे जलावल आग बुत जा हइ ! लेकिन कइसन इच्छाशक्ति ओकन्हीं के ई विश्वास देलइलकइ, कि ई पूरा आकाश आउ ओकरा पर के अनगिनत निवासी ओकन्हीं के मूक, लेकिन स्थायी, सहानुभूति के साथ देखब करऽ हइ ! ... आउ हमन्हीं, ओकन्हीं के दयनीय वंशज, जे पृथ्वी पर बिन कोय धारणा आउ गौरव के भटक रहलिए ह, बिन कोय आनंद आउ भय के, (सिवाय ऊ अनैच्छिक भय के, जे अनिवार्य अंत के बारे विचार अइला पर हृदय के संकुचित कर दे हइ), हमन्हीं सब न तो मानव कल्याण खातिर, न तो खुद के खुशियो खातिर, कोय बड़गो बलिदान करे में अभी सक्षम हिअइ, काहेकि हमन्हीं के एकर असंभावना मालूम हइ, आउ भावशून्यता के साथ एक शंका से दोसरा शंका से गुजरऽ हिअइ, जइसे कि हमन्हीं के पूर्वज लोग एक भ्रांत धारणा से दोसरा में पड़ जा हलथिन, लेकिन उनकन्हीं नियन बिन कोय आशा के, चाहे ऊ अनिश्चित, हलाँकि वास्तविक आनंद के, जेकरा से आत्मा के, लोग या भाग्य के साथ, हरेक संघर्ष में पाला पड़ऽ हइ ... 

आउ कइएक अइसन विचार हमर दिमाग से गुजरलइ । हम ओकरा रोकके नयँ रखलिअइ, काहेकि हमरा कइसनो भावात्मक (abstract) विचार पर ध्यान केंद्रित करना पसीन नयँ । आउ ई काहाँ ले जइतइ ? ... अपन जवानी के शुरुआत में हम स्वप्नद्रष्टा हलिअइ । हमरा बारी-बारी से कभी उदास, त कभी रंग-बिरंगा आकृति के दुलार करना निम्मन लगऽ हलइ, जे बेचैन आउ लोलुप कल्पना हमरा सामने चित्रित करऽ हलइ । लेकिन एकरा से हमरा लगी की रह गेल ? खाली थकान, जइसे रात के भूत के साथ लड़ाय के बाद आवऽ हइ, आउ खेद के साथ भरल एगो अस्पष्ट आदगार । ई बेकार के संघर्ष में हम आत्मा के जोश आउ इच्छाशक्ति के दृढ़ता क्षीण कर देलिअइ, जे वास्तविक जिनगी में आवश्यक हइ । हम ई जिनगी में प्रवेश कइलिअइ, जेकरा हम पहिलहीं कल्पना में जी चुकलिए हल, आउ हमरा बोरियत आउ चीढ़ होवे लगलइ, बिलकुल ओकरा नियन, जे एगो भद्दा नकल कइल पुस्तक पढ़ऽ हइ, जेकरा बारे ऊ बहुत पहिलहीं से परिचित हइ ।

शाम के ई घटना हमर मस्तिष्क पर एगो काफी गहरा छाप छोड़लकइ आउ हमर स्नायु के उत्तेजित कइलकइ । हमरा पक्का ई मालूम नयँ, कि अब हमरा पूर्वनिर्धारण में विश्वास हइ कि नयँ, लेकिन ई शाम में हमरा दृढ़ विश्वास हलइ । प्रमाण विलक्षण हलइ, आउ हम ई बात के बावजूद, कि अपन पूर्वज लोग पर आउ उनकर सेवापरायण फलित ज्योतिष पर हँसलिअइ, हम जाने-अनजाने उनकर लीक पर चल पड़लिअइ, लेकिन हम खुद के समय पर ई खतरनाक रस्ता पर जाय से रोक लेलिअइ, आउ ई नियम के ध्यान में रखते, कि कुच्छो के निर्णायक रूप से (decisively) अस्वीकार नयँ करे के चाही आउ कउनो बात पर आँख मूनके विश्वास नयँ करे के चाही, हम पराभौतिकी (metaphysics) के बगल कर देलिअइ आउ अपन गोड़ के निच्चे देखना चालू कइलिअइ । अइसन सवधानी बहुत सुअवसर पर होलइ - कुछ तो मोटगर आउ मोलायम, लेकिन स्पष्टतया एगो निर्जीव, पर ठोकर खाके हम लगभग गिरिए गेलूँ हल । झुकके देखऽ ही - चान सीधे रस्ता पर चमक रहले हल - आउ ओहो कउची ? हमर सामने एगो सूअर पड़ल हले, तलवार से दू टुकड़ा होल ... मोसकिल से हम ओकरा देख पइलिए हल, कि हमरा कदम के आहट सुनाय देलकइ । दू कज़ाक गल्ली से दौड़ल आब करऽ हलइ, एगो हमरा भिर अइलइ आउ पुछलकइ, कि की हमरा एगो पीयल कज़ाक पर नजर पड़ले हल, जे एगो सूअर के पीछा कर रहले हल । हम ओकरा बतइलिअइ, कि हमरा कज़ाक से भेंट तो नयँ होले हल, आउ ओकर प्रचंड वीरता के अभागल शिकार दने इशारा कइलिअइ ।
"कइसन डाकू हइ !" दोसरा कज़ाक बोललइ, "जइसीं चिख़िर (काकेशियाई नयका लाल दारू, चाहे द्राक्षारस) चढ़ा ले हइ, ओइसीं ऊ सब कुछ काटे-कुट्टे लगऽ हइ, जे ओकर सामने पड़ जा हइ । येरेमेइच, ओकर पीछू चलल जाय, ओकरा बान्ह-छान्ह लेवे के चाही, नयँ तो..."
ओकन्हीं चल गेलइ, आउ हम अधिक सवधानी से अपन रस्ता पर चलते रहलिअइ आउ आखिरकार अपन क्वार्टर तक सकुशल पहुँच गेलिअइ ।
हम एगो वृद्ध उर्यादनिक (कज़ाक सर्जेंट) के हियाँ रहऽ हलिअइ, जेकरा हम ओकर निम्मन स्वभाव के चलते पसीन करऽ हलइ, आउ विशेष करके ओकर सुंदर बेटी नास्त्या के कारण ।
ऊ, हमेशे नियन, विकेट गेट भिर फरकोट पेन्हले हमर इंतजार करब करऽ हलइ । चान ओकर प्यारा ठोर के प्रकाशित कर रहले हल, जे रात के ठंढक के चलते नीला हो गेले हल । हमरा पछान गेला पर, ऊ मुसकइलइ, लेकिन हमरा ओकरा से काम नयँ हलइ । "शुभ रात्रि, नास्त्या", पास से गुजरते हम कहलिअइ । ऊ कुछ तो उत्तर देवे लगी चहलकइ, लेकिन खाली उच्छ्वास लेलकइ ।

हम अपन कमरा के दरवाजा अपन पीछू बन कर लेलिअइ, मोमबत्ती जलइलिअइ आउ बिछौना पर पड़ गेलिअइ । लेकिन नीन हमरा हमेशे के अपेक्षा जादे इंतजार करइलकइ । जब हमरा नीन पड़लइ, तखने पूरब में पीयर होवे लगले हल, लेकिन - स्पष्ट हलइ, स्वर्ग (भाग्य) में लिक्खल हलइ, कि हमरा ई रात नीन नयँ अइतइ । चार बजे सुबह में दू मुट्ठी हमरा हीं खिड़की पर दस्तक देवे लगलइ । हम उछलके खड़ी हो गेलिअइ । "की बात हइ ? ..." - "उट्ठऽ, पोशाक पेन्हके तैयार हो जा !" कइएक स्वर हमरा लगी चिखलइ । हम तेजी से पोशाक पेन्हलिअइ आउ बाहर निकसलिअइ । "जानऽ हो, की होलइ ?" तीन अफसर एक स्वर में बोलते गेलथिन, जे हमरा लगी अइलथिन हल । उनकन्हीं मौत नियन पीयर हलथिन ।
"की ?"
"वुलिच मारल गेलइ ।"
हम स्तंभित हो गेलिअइ ।
"हाँ, मारल गेलइ", उनकन्हीं बात जारी रखलथिन, "शीघ्र चलल जाय ।"
"लेकिन कद्धिर ?"
"रस्ता में मालूम पड़तो ।"
हमन्हीं चल पड़लिअइ । उनकन्हीं हमरा सब कुछ बतइलथिन, जे कुछ घटले हल, ऊ विचित्र पूर्वनिर्धारण के बारे कइएक टिप्पणी के साथ, जे ओकर मौत के आध घंटा पहिले ओकरा अनिवार्य मौत से बचा लेलके हल । वुलिच अन्हार सड़क पर अकेल्ले जा रहले हल । ओकरा भिर ऊ पीयल कज़ाक सरपट अइलइ, जे पहिले सूअर के काट देलके हल, आउ शायद, ओकर सामने से गुजर जइते हल, ओकरा बिन देखले, अगर वूलिच अचानक रुकके ओकरा संबोधित करके नयँ कहते हल - "भाय, केकरा ढूँढ़ रहलहो ह ?" - "तोरा !" कज़ाक जवाब देलकइ, ओकरा पर तलवार से प्रहार करते, आउ ओकरा कन्हा से लेके लगभग दिल तक दू टुकड़ा कर देलकइ ... दू कज़ाक, जे हमरा से मिलते गेले हल आउ हत्यारा के पीछा कर रहले हल, ओकरा भिर पहुँचलइ, घायल अफसर के उठा लेलकइ, लेकिन ऊ अब अंतिम साँस ले रहले हल आउ ऊ खाली एतने बोल पइलकइ - "ऊ सही हलइ !" खाली हमहीं समझ पइलिअइ ई शब्द के अस्पष्ट अर्थ - ई हमरा से संबंधित हलइ । जाने-अनजाने हम ऊ बेचारा के भाग्य के भविष्यवाणी कर देलिए हल; हमर छट्ठा इंद्रिय (instinct) हमरा धोखा नयँ देलके हल - हम ओकर परिवर्तित होल चेहरा पर निकट भविष्य में ओकर मौत के छाप बिलकुल सही-सही पढ़ लेलिए हल ।
हत्यारा एगो खाली झोपड़ी में बन हो गेले हल, जे स्तानित्सा (कज़ाक गाँव) के आखिर में हलइ । हमन्हीं ओद्धिर बढ़लिअइ । कइएक औरत कनते ओधरे दौड़ल जाब करऽ हलइ । समय से पिछुआल कोय कज़ाक तेजी से निकसके सड़क पर निकसऽ हलइ, जल्दी-जल्दी में कमर में खंजर खोंसते, आउ दौड़ते-दौड़ते हमन्हीं के सामने से गुजर जा हलइ । भगदड़ भयंकर हलइ ।

अइकी आखिरकार हमन्हीं हुआँ पहुँचलिअइ, त देखऽ हिअइ -  ऊ झोपड़ी के चारो तरफ, जेकर दरवाजा आउ शटर अंदर से बन हइ, भीड़ लगल हइ । अफसर आउ कज़ाक लोग आपस में गरमागरम बहस कर रहते जा रहला ह - औरत लोग विलाप कर रहला ह, कोसते आउ शिकायत करते । ओकन्हीं में से हमर नजर एगो बुढ़िया के आश्चर्यजनक चेहरा पर पड़लइ, जे उग्र उदासी व्यक्त कर रहले हल । ऊ एगो मोटगर लट्ठा (log) पर बैठल हलइ, अपन केहुनी के टेहुना पर टिकइले आउ हाथ से सिर के सहारा देले । ऊ हत्यारा के माय हलइ । ओकर ठोर बीच-बीच में हिल्लऽ हलइ - की फुसफुसाहट में ई प्रार्थना करब करऽ हलइ, कि सराप (शाप) देब करऽ हलइ ?

ई दौरान अपराधी के पकड़े लगी कुछ तो फैसला करे के चाही हल । लेकिन कोय नयँ आगू आवे के साहस करब करऽ हलइ । हम खिड़की भिर गेलिअइ आउ शटर के दरार से देखलिअइ । ओकर चेहरा पीयर हलइ, ऊ फर्श पर पड़ल हलइ, दहिना हाथ में पिस्तौल लेले; खून से लथपथ तलवार ओकर बगल में पड़ल हलइ । ओकर अभिव्यंजक (expressive) आँख भयंकर रूप से चारो तरफ घूर रहले हल । कभी-कभी ऊ चौंक जाय आउ अपन सिर पकड़ लेइ, मानूँ अस्पष्ट रूप से कल के घटना के आद कर रहल होवे । हम ई बेचैन नजर में कोय बड़गो दृढ़ संकल्प नयँ पढ़लिअइ आउ मेजर के कहलिअइ, कि ऊ बेकारे कज़ाक लोग के दरवाजा तोड़े आउ ओद्धिर घुस्से के औडर नयँ देब करऽ हथिन, काहेकि ई काम करना अभिए बेहतर हइ, बनिस्पत बाद के, जब ऊ बिलकुल होश में आ जइतइ ।

एतने में वृद्ध एसाउल (कज़ाक कप्तान) दरवाजा भिर गेलइ आउ ओकरा नाम से पुकरलकइ । ऊ प्रतिसाद (response) देलकइ ।
"भाय येफ़िमिच, तूँ पाप कइलँऽ हँ", एसाउल कहलकइ, "त तोरा आत्मसमर्पण करे के सिवा कोय चारा नयँ हकउ!"
"हम आत्मसमर्पण नयँ करम !" कज़ाक उत्तर देलकइ ।
"भगमान से तो डर । वस्तुतः तूँ तो अभिशप्त चेचेन नयँ हकँऽ, बल्कि एगो पक्का क्रिश्चियन । खैर, अगर पाप तोरा बहका देलको ह, त कुछ नयँ कइल जा सकऽ हउ - तूँ अपन भाग्य से बच नयँ पइमँऽ !"
"हम आत्मसमर्पण नयँ करम !" भयंकर रूप से कज़ाक चिल्लइलइ, आउ जब घोड़ा चढ़इलकइ, त ओकर अवाज सुनाय पड़लइ ।
"ए चाची !" एसाउल बुढ़िया के कहलकइ, "अपन बेटवा से जरी बात करहीं, शायद तोर बात सुनतउ ... वास्तव में ई खाली भगमान के गोस्सा बरइतउ । आउ देखहीं, ई महाशय लोग दू घंटा से इंतजार करब करऽ हथिन ।"
बुढ़िया उनका तरफ एकटक देखते रहलइ आउ सिर हिलइलकइ । "वसीली पित्रोविच", मेजर के पास जाके एसाउल कहलकइ, "ऊ आत्मसमर्पण नयँ करतइ - हम ओकरा जानऽ हिअइ । आउ अगर हमन्हीं दरवाजा तोड़ दे हिअइ, त ऊ हमन्हीं के कइएक लोग के मार देतइ । की ई बेहतर नयँ होतइ कि अपने ओकरा शूट कर देवे के आज्ञा देथिन ? शटर में दरार काफी चौला हइ ।"

एहे समय हमर दिमाग में एगो विचित्र विचार कौंधलइ । वुलिच नियन, हम भाग्य के अजमावे के सोचलिअइ ।
"ठहरथिन", हम मेजर के कहलिअइ, "हम ओकरा जिंदा पकड़ लेबइ ।"
एसाउल के ओकरा साथ बातचीत शुरू करे के कहके आउ दरवाजा भिर तीन कज़ाक के रखके, जे बतावल इशारा पर एकरा तोड़के हमर मदद लगी झपट पड़इ, हम झोपड़ी के चक्कर लगइलिअइ आउ निर्णायक खिड़की बिजुन अइलिअइ । हमर दिल जोर-जोर से धड़क रहल हल ।
"अरे अभिशप्त !" एसाउल चिल्लइलइ । "की तूँ हमन्हीं पर हँस रहलहीं हँ ? कि सोचऽ हीं, कि हमन्हीं तोरा काबू में नयँ कर लेते जइबउ ?"
ऊ पूरा जोर लगाके दरवाजा खटखटावे लगलइ । हम, अपन नजर दरार पर टिकइले, कज़ाक के हरेक हरक्कत पर ध्यान देते रहलिअइ, जेकरा ई तरफ से हमला के अपेक्षा नयँ हलइ - आउ अचानक शटर के घींचके अलगे कर देलिअइ आउ सिर निच्चे मुँहें कइले खिड़की से होके अंदर झपट पड़लिअइ । हमर कान के ठीक उपरे गोली के अवाज सुनाय पड़लइ, गोली हमर स्कंधिका (epaulettes) के फाड़ देलकइ । लेकिन धुआँ, जे पूरे कमरा में भर गेले हल, हमर प्रतिद्वंद्वी के अपन बगली में पड़ल तलवार खोजे में बाधा डललकइ । हम ओकरा बाँह से जकड़ लेलिअइ; कज़ाक लोग दरवाजा तोड़के अंदर घुसते गेलइ, आउ तीनो मिनट नयँ गुजरलइ, कि अपराधी के बान्ह लेवल गेलइ आउ गार्ड के अधीन ले जाल गेलइ । लोग तितर-बितर हो गेते गेलइ । अफसर लोग हमरा बधाई देते गेलथिन - आउ जे बिलकुल तर्कसंगत हलइ !

ई सब घटना के बाद, लगऽ हइ, कि कइसे अदमी भाग्यवादी नयँ बन जइतइ ? लेकिन कोय अदमी कइसे ई पक्का जान पइतइ, कि ऊ कोय मामले में कायल (convinced) हइ कि नयँ ? ... आउ अकसर केतना तुरी हमन्हीं भावना के धोखा, चाहे तर्क के गलती के, दृढ़ विश्वास (conviction) समझ लेते जा हिअइ ! ...
हमरा सब कुछ में शंका करना पसीन हइ - मस्तिष्क के ई प्रवृत्ति के कारण चरित्र के दृढ़संकल्पना में कोय बाधा नयँ आवऽ हइ - एकर विपरीत, जाहाँ तक हमरा से संबंध हइ, त हम हमेशे आउ अधिक साहस के साथ आगू बढ़ऽ हिअइ, जब हमरा मालूम नयँ रहऽ हइ, कि आगू हमरा साथ की होवे वला हइ । वस्तुतः मौत से बत्तर तो कुछ नयँ होवऽ हइ - आउ मौत से कोय बच नयँ सकऽ हइ !

किला में लौटला पर, हम माक्सीम माक्सीमिच के ऊ सब कुछ बतइलिअइ, जे हमरा साथ घटले हल आउ जेकर हम साक्षी हलिअइ, आउ पूर्वनिर्धारण के बारे उनकर विचार जाने लगी चहलिअइ । शुरू-शुरू में उनका ई शब्द समझ में नयँ अइलइ, लेकिन हम उनका, जेतना हो सकलइ, ओतना समझइलिअइ, आउ तब ऊ बतइलथिन, सार्थक रूप से सिर हिलइते –
"जी हाँ ! वास्तव में जी ! ई एगो पेचीदा मामला हइ ! ... लेकिन, ई एशियाई पिस्तौल के घोड़ा से अकसर मिसफायर होवऽ हइ, अगर ठीक से तेल डालल नयँ रहऽ हइ, चाहे अँगुरी के दबाव काफी नयँ होवऽ हइ । हम स्वीकार करऽ हिअइ, कि हमरा चेर्केस राइफल भी पसीन नयँ; ई हमन्हीं जइसन लोग खातिर कइसूँ अनुचित होवऽ हइ । एकर कुंदा (butt) एतना छोटगर होवऽ हइ, कि तोरा सावधान रहे पड़तो, कि कहीं नाक नयँ जर जाय ... लेकिन ओकन्हीं के तलवार - बस ओकरा तो हम आदर करऽ हिअइ !"
कुछ पल सोचला के बाद ऊ आगू बोललथिन -
"हाँ, हमरा ऊ बेचारा पर तरस आवऽ हइ ... शैताने ओकर दिमाग खराब कर देलके होत कि रात में ऊ पियक्कड़ से बातचीत कइलकइ ! ... लेकिन तइयो, स्पष्ट हइ, कि ओकर जन्म के समइए में प्रारब्ध में अइसन लिक्खल हलइ..."
एकरा से आउ कुछ जादे हम उनका से प्राप्त नयँ कर पइलिअइ - उनका साधारणतः पराभौतिक (metaphysical) वाद-विवाद पसीन नयँ ।

--- समाप्त ---
अनूदित साहित्य             सूची            पिछला