विजेट आपके ब्लॉग पर

Sunday, October 15, 2017

2.19 रूसी कहानी "काला पान के बीवी" ; अध्याय-2

2
"Il paraît que monsieur est décidément pour les suivantes."
"Que voulez-vouz, madame? Elles sont plus fraîches."

("अइसन लगऽ हइ कि महाशय नौकरानी लोग के जादे चाहऽ हथिन ।"

"की कइल जाय, मैडम ? ओकन्हीं में जादे ताजगी होवऽ हइ ।")
--- उच्च समाज के बातचीत । [1]

बूढ़ी काउंटेस *** अपन शृंगार-कक्ष में दर्पण के सामने बैठल हलइ । तीन नवयुवती नौकरानी ओकरा घेरले हलइ । एगो गाजा (rouge) के डिबिया लेले हलइ, दोसरकी हेयर-पिन के डिबिया, तेसरकी अंगारा के रंग के रिब्बन के साथ उँचगर टोपी । काउंटेस अपन सुन्दरता के जरिक्को दावा नयँ करऽ हलइ, जे कब के मुरझा गेले हल, लेकिन अभियो तक अपन जवानी के आदत बरकरार रखले हलइ, (अठरहमी शताब्दी के) सत्तर के दशक के फैशन के कड़ाई से निभावऽ हलइ आउ ओइसीं पोशाक के धारण करे में बहुत समय लगावऽ हलइ, ओतने परिश्रम से, जेतना साठ साल पहिले । खिड़की बिजुन एगो नवयुवती, जे ओकर संरक्षिता हलइ, कारचोब (लकड़ी के ऊ चौखटा जेकरा पर कपड़ा तानके कशीदाकारी के काम कइल जा हइ, embroidery frame) के सामने बैठल हलइ ।
"निम्मन स्वास्थ्य के कामना, ग्राँ-मामाँ" [grand'maman - (फ्रेंच) दादी], अंदर आके नवयुवक अफसर बोललइ । "बौँजु, मद्म्वाज़ेल लीज़" [Bonjour, mademoiselle Lise - (फ्रेंच) शुभ दिवस, मिस लीज़ा] । ग्राँ-मामाँ, हम अपने के पास एगो अनुरोध करे लगी अइलिए ह ।"
"की बात हइ, पॉल ?"
"अपन एगो मित्र के अपने के सामने परिचित करावे लगी आउ शुक्रवार के दिन बॉल नृत्य में ओकरा अपने हियाँ लावे के अनुमति देथिन ।"
"ओकरा सीधे बॉल नृत्य में हीं ले अइहँऽ, आउ हुएँ ओकर परिचय दीहँऽ । अच्छऽ, कल तूँ *** हियाँ गेलहीं हल?"
"कइसे नयँ जइतिए हल ! हुआँ बहुत मजा अइलइ; पाँच बजे तक नृत्य होलइ । केतना सुंदर लग रहले हल इलेत्स्कयऽ !"
"हले ले, हमर प्यारे ! ओकरा में सुंदर कउची हइ ? ओकर दादी राजकुमारी दार्या पित्रोव्ना के जरी देखतहीं हल ! ... संयोगवश - हमरा लगऽ हइ, राजकुमारी दार्या पित्रोव्ना अब तो बहुत बूढ़ी हो गेलथिन होत ?"
"की, बूढ़ी हो गेलथिन होत ?" अन्यमनस्कता से तोम्स्की उत्तर देलकइ. "उनकर देहान्त होल तो सात बरिस हो गेलइ ।"
नवयुवती अपन सिर उठइलकइ आउ नवयुवक के इशारा कइलकइ । ओकरा आद पड़लइ कि बूढ़ी काउंटेस से ओकर समवयस्क लोग के मौत के बात छिपावल गेले हल, आउ ऊ भूल लगी अपन होंठ काट लेलकइ । लेकिन काउंटेस ई समाचार के, जे ओकरा लगी नावा हलइ, बड़ी भावशून्यता से सुनलकइ ।
"मर गेलथिन !" ऊ कहलकइ, "आउ हमरा पते नयँ ! हमन्हीं दुन्नु के लेडी-इन-वेटिंग (lady-in-waiting, maids of honour) नियुक्त कइल गेले हल, आउ जब हमन्हीं सामने गेलिअइ, त साम्राज्ञी ..."
आउ काउंटेस पोतवा के सोम्मा (सौवाँ) तुरी अपन ओहे खिस्सा सुनइलकइ ।
"अच्छऽ, पॉल", बाद में ओकरा कहलकइ, "अब हमरा उट्ठे में जरी मदत कर । लिज़ान्का, हमर नासदानी (snuffbox) काहाँ परी हइ ?"
आउ काउंटेस अपन नौकरानी सब के साथ अपन साज-शृंगार पूरा करे लगी परदा के पीछू चल गेलइ । तोम्स्की नवयुवती के साथ रह गेलइ ।
"केकरा अपने परिचित करवावे लगी चाहऽ हथिन ?" लिज़ावेता इवानोव्ना धीरे से पुछलकइ ।
"नारूमोव के । अपने उनका जानऽ हथिन ?"
"नयँ ! ऊ सैनिक हथिन कि असैनिक ?"
"सैनिक ।"
"इंजीनियर ?"
"नयँ ! अश्वारोही सैनिक । लेकिन अपने कइसे सोचलथिन कि ऊ इंजीनियर हथिन ?"
नवयुवती हँस पड़लइ आउ एक्को शब्द नयँ बोललइ ।
"पॉल !" परदा के पीछू से काउंटेस बोललइ, "हमरा पास कइसनो नयका उपन्यास भेजवा दीहँऽ, लेकिन किरपा करके खाली आधुनिक नयँ ।"
"की मतलब, ग्राँ-मामाँ ?"
"मतलब अइसन उपन्यास, जेकरा में नायक न तो अपन बाप के गला घोंटे, आउ न माय के आउ जेकरा में डुबावल लाश के वर्णन नयँ होवे । हमरा डुबावल लाश से बहुत डर लगऽ हके !"
"अइसन उपन्यास आझकल नयँ होवऽ हइ । की अपने के रूसी उपन्यास नयँ चाही ?"
"त की वास्तव में रूसी उपन्यास हकइ ? ... भेजवा दीहँऽ, बबुआ, किरपा करके भेजवा दीहँऽ !"
"क्षमा करथिन, ग्राँ-मामाँ - हम जरी जल्दी में हिअइ ... क्षमा करथिन, लिज़ावेता इवानोव्ना ! कइसे अपने सोचलथिन कि नारूमोव इंजीनियर हथिन ?"
आउ तोम्स्की शृंगार-कक्ष से बाहर हो गेलइ ।
लिज़ावेता इवानोव्ना अकेल्ले रह हेलइ - ऊ अपन काम छोड़ देलकइ आउ खिड़की से बहरसी हुलके लगलइ । जल्दीए सड़क के एक दने कोनमा भिर के घरवा से एगो नवयुवक अफसर देखाय देलकइ । ओकर गाल पर लाली छा गेलइ - ऊ फेर से अपन काम में लग गेलइ आउ अपन सिर ठीक किरमिच (canvas) पर झुका लेलकइ । तखनिएँ काउंटेस अंदर अइलइ, पूरा सज-धजके ।
"लिज़ान्का, गाड़ी तैयार करे के औडर दे दे", ऊ बोललइ, "आउ हमन्हीं जरी घुम्मे जइबइ ।"
लिज़ान्का किरमिच के पीछू से उठलइ आउ अपन काम समेटे लगलइ ।
"की तूँ, माय हमर ! बहिर हो गेलहीं की !" काउंटेस चिल्लइलइ । "जल्दी से करेता (घोड़ागाड़ी) में घोड़ा जोते लगी औडर दे दे ।"
"अभिए जा हिअइ !" नवयुवती धीरे से उत्तर देलकइ आउ दौड़ल ड्योढ़ी में अइलइ ।
नौकर अंदर अइलइ आउ राजकुमार पावेल अलिक्सांद्रोविच के तरफ से कुछ पुस्तक सौंपलकइ ।
"ठीक हइ ! हमरा तरफ से धन्यवाद कह देहीं ।" काउंटेस कहलकइ । "लिज़ान्का, लिज़ान्का ! काहाँ दौड़ल जाब करऽ हीं ?"
"कपड़ा पेन्हे लगी ।"
"जरी जल्दी कर रहलँऽ हँ, दुलारी । हियाँ बैठ । पहिला खंड (volume) खोल; जोर से पढ़ ..."
नवयुवती किताब लेलकइ आउ कुछ पंक्ति पढ़लकइ ।
"आउ जोर से !" काउंटेस कहलकइ । "तोरा की हो गेलो ह, माय हमर ? तोर गला बैठ गेलो ह की ? ... जरी रुक - जरी ऊ स्टूल तो घसकाऽ हमरा दने, आउ नगीच ... ठीक !"
लिज़ावेता इवानोव्ना दू पृष्ठ आउ पढ़लकइ । काउंटेस जम्हाई लेलकइ ।
"फेंक दे ई किताब", ऊ कहलकइ, "कइसन बकवास हइ ! वापिस भेजवा दे एकरा राजकुमार पावेल के हियाँ आउ धन्यवाद देवे लगी कह देहीं ... हाँ, आउ करेता (घोड़ागाड़ी) के की होलइ ?"
"त तूँ अभी तक कपड़ा पेन्हके तैयार काहे नयँ होलँऽ ?" काउंटेस कहलकइ, "हमेशे तोरा लगी इंतजार करे के चाही ! ई, दुलारी, बरदास के बाहर हउ ।"
"करेता तो तैयार हइ ।" सड़क दने नजर डालके लिज़ावेता इवानोव्ना कहलकइ ।
लीज़ा दौड़ल अपन कमरा में गेलइ । दुइयो मिनट नयँ होलइ कि काउंटेस अपन पूरा ताकत लगाके पुकारे लगलइ । तीन नौकरानी एक्के दरवाजा से दौड़ते अंदर अइलइ, आउ एगो कामेरडिनेर [Kammerdiener - (जर्मन) शाब्दिक अर्थ - "कमरा में देखभाल करे वला नौकर", room servant] दोसरा दरवाजा से ।
"ई की, तोहन्हीं के हँकइला पर सुनाय नयँ दे हउ ?" ओकन्हीं के काउंटेस कहलकइ । "लिज़ावेता इवानोव्ना के बता दे कि हम ओकर इंतजार कर रहलिए ह ।"
लिज़ावेता इवानोव्ना कपोत [capote - (फ्रेंच) घर में पेन्हल जाय वला औरतानी कोट] आउ टोपी में अंदर अइलइ ।
"आखिरकार, माय हमर !" काउंटेस कहलकइ । "कइसन पोशाक हइ ई ! काहे लगी ई ... केकरा ललचावे के हकउ ? ... आउ ई मौसम कइसन हइ ? लगऽ हइ, हावा हइ ।"
"जी बिलकुल नयँ, महामहिम ! जी, बहुत शांत हइ !" कामेरडिनेर उत्तर देलकइ ।
"तोहन्हीं बिन सोचले-समझले जे मन में आवऽ हउ, बोल देते जा हँऽ ! फ़ोरतोच्का (वायु-संचालन खातिर खिड़की में काच के छोटगर शटर) खोल देते जो ।"
एहे बात हइ - हावा ! आउ बहुत ठंढी ! करेता (घोड़ागाड़ी) के साज से मुक्त कर दे ! लिज़ान्का, हमन्हीं नयँ जइते जइबइ - तोरा सज्जे-धज्जे के कोय जरूरत नयँ हलउ ।
"त अइसन हइ हमर जिनगी !" लिज़ावेता इवानोव्ना सोचलकइ ।
वास्तव में लिज़ावेता इवानोव्ना अत्यंत अभागल जीव हलइ । "अजनबी के रोटी कड़वा होवऽ हइ", दान्ते के कहना हइ, "आउ अजनबी के ड्योढ़ी के सोपान (steps) पर चढ़ना मोसकिल होवऽ हइ, आउ उच्चवर्ग के बूढ़ी के निर्भरता के कटुता बेचारी आश्रिता से बेहतर केऽ जानतइ ? काउंटेस ***, निस्संदेह, दिल के बुरी नयँ हलइ; लेकिन उच्च समाज के द्वारा बिगाड़ल सब औरत नियन मनमानी करऽ हलइ, कंजूस आउ निर्मम स्वार्थ में निमग्न हलइ, जइसे कि ऊ सब बुढ़वन होवऽ हइ, जे अपन अतीत के सर्वोत्तम दिन के स्मृति में जीयऽ हइ आउ जेकरा लगी वर्तमान अजनबी (alien) हइ । ऊ उच्च समाज के सब्भे क्षुद्र घटना वला चहल-पहल में भाग ले हलइ, बॉल नृत्य में खुद के घसीटऽ हलइ, जाहाँ परी ऊ पाउडर लगइले आउ पुरनका फैशन के कपड़ा पेन्हले एगो कोना में बैठल रहऽ हलइ, बॉल नृत्य के हॉल के भद्दा आउ आवश्यक आभूषण नियन; आगंतुक अतिथि लोग, एगो स्थापित प्रथा के अनुसार, ओकरा दने आके निच्चे झुकके अभिवादन करते जा हलइ, आउ बाद में ओकरा पर कोय नयँ ध्यान दे हलइ । शिष्टाचार के कठोरता से पालन करते आउ केकरो चेहरा से नयँ पछानते, ऊ पूरा शहर के अपना हीं आमंत्रित करइ । ओकर अनेक नौकर-चाकर, जे ओकर प्रवेश-कक्ष आउ नौकरानी लोग के क्वाटर में अपन चर्बी बढ़ा लेलके हल आउ उज्जर केश वला हो चुकले हल, अपन मनमानी करते जा हलइ, एक दोसरा से होड़ करते मरणासन्न बुढ़िया के लुट्टब करऽ हलइ । लिज़ावेता इवानोव्ना एगो घरेलू हुतात्मा (शहीद) हलइ । ऊ चाय ढारऽ हलइ आउ ओकरा जादे चीनी के प्रयोग करे के कारण फटकार सुन्ने पड़ऽ हलइ; ऊ उच्च स्वर में उपन्यास पढ़ऽ हलइ आउ लेखक के सब्भे गलती के दोषी ओकरे ठहरावल जा हलइ; ऊ काउंटेस के सैर-सपाटा में ओकर साथ रहऽ हलइ आउ ओकरे मौसम आउ सड़क के खराबी के जिम्मेदार ठहरावल जा हलइ । ओकर वेतन नियत कइल हलइ, जे कभियो पूरा-पूरा नयँ मिल्लऽ हलइ; आउ एहे दौरान ओकरा से माँग कइल जा हलइ कि ओहो बाकी लोग नियन पोशाक में सज्जइ-धज्जइ, मतलब बहुत कम लोग नियन । उच्च समाज में ओकर भूमिका अत्यंत दयनीय होवऽ हलइ । सब कोय ओकरा जानऽ हलइ, लेकिन कोय ओकरा पर ध्यान नयँ दे हलइ; बॉल में ऊ तभिए नृत्य करऽ हलइ जब कोय वी-ज़ा-वी [vis-à-vis - (फ्रेंच) जोड़ीदार] नयँ मिल्लऽ हलइ, आउ महिला लोग हर तुरी, जब ओकन्हीं के खुद के साज-सिंगार में कुछ ठीक-ठाक करे के जरूरत पड़ऽ हलइ, त ओकर हाथ पकड़के अपन साथ शृंगार-कक्ष में ले जइते जा हलइ । ऊ स्वाभिमानी हलइ, अपन स्थिति के बारे सजीव रूप से अनुभव करऽ हलइ आउ अपन चारों तरफ नजर दौड़इते रहऽ हलइ - अधीरतापूर्वक अपन उद्धारक के प्रत्याशा में; लेकिन अपन चंचल अहंकार के मामले में सावधान नवयुवक लोग ओकरा पर कोय ध्यान नयँ देते जा हलइ, हलाँकि लिज़ावेता इवानोव्ना सो गुना मनोहर हलइ, ऊ निर्लज्ज आउ निष्ठुर विवाह के योग्य नवयुवती लोग के अपेक्षा, जेकर ईर्द-गिर्द ओकन्हीं मँड़रइते रहऽ हलइ । केतना तुरी ऊ ऊब भरल आउ शानदार अतिथि-कक्ष से दबे पाँव निकसके कन्ने लगी अपन दयनीय कमरा में चल जा हलइ, जाहाँ परी हलइ दीवारी कागज लगल परदा, दराजदार अलमारी, एगो छोटगर दर्पण आउ पेंट कइल पलंग आउ जाहाँ परी तामा के शमादान में एगो मेदबत्ती (tallow candle) मद्धिम रोशनी के साथ जलते रहऽ हलइ !
एक तुरी - ई घटना ई लमगर कहानी के शुरू में वर्णन कइल शाम के दू दिन बाद घटलइ, आउ ऊ दृश्य के एक सप्ताह पहिले, जेकरा पर आके हम सब रुकलिअइ - एक तुरी लिज़ावेता इवानोव्ना, खिड़की बिजुन किरमिच के पीछू बैठल, संयोग से सड़क दने नजर दौड़इलकइ, त एगो नवयुवक इंजीनियर देखाय देलकइ, जे निश्चल खड़ी हलइ आउ ओकर खिड़की दने नजर टिकइले हलइ । ऊ अपन मूड़ी गोत लेलकइ आउ फेर से अपन काम में लग गेलइ; पाँच मिनट के बाद फेर से ओन्ने नजर डललकइ - नवयुवक अफसर ओहे जगह पर खड़ी हलइ । राह चलते अफसर लोग के साथ देखावटी प्रेम करे के आदत नयँ होवे से ऊ सड़क दने नजर डालना बंद कर देलकइ आउ बिन मूड़ी उठइले लगभग दू घंटा तक कशीदाकारी के काम  करते रहलइ । दुपहर के भोजन के समय हो गेलइ । ऊ उठलइ, अपन किरमिच के समेटे लगलइ, आउ संयोगवश सड़क दने नजर गेला पर फेर से ऊ अफसर के देखलकइ । ई ओकरा काफी विचित्र लगलइ । भोजन के बाद ऊ कुछ बेचैनी अनुभव करते खिड़की बिजुन अइलइ, लेकिन अफसर अब हुआँ नयँ देखाय देलकइ - आउ ऊ ओकरा बारे भूल गेलइ ...
दू दिन बाद जइसीं बाहर निकसके काउंटेस के साथ करेता (घोड़ागाड़ी) में बैठे लगी जा रहले हल, ऊ फेर से ओकरा देखलकइ । अपन चेहरा ऊदबिलाव (beaver) के खाल के कालर से ढँकले प्रवेशद्वार के ठीक पास खड़ी हलइ - टोप के निच्चे से ओकर कार-कार आँख चमक रहले हल । लिज़ावेता इवानोव्ना डर गेलइ, ओकरा खुद नयँ समझ में अइलइ कि काहे लगी, आउ अनिर्वचनीय थरथराहट (inexplicable trepidation) के साथ करेता में बैठ गेलइ ।
घर वापिस अइला पर ऊ खिड़की भिर दौड़ल अइलइ - अफसर पहिलौके जगह पर खड़ी हलइ, ओकरा दने एकटक तकते; ऊ दूर हट गेलइ, उत्सुकता से व्यथित आउ अइसन भावना से उत्तेजित, जे ओकरा लगी बिलकुल नावा हलइ ।
तखने से एक्को दिन अइसन नयँ गुजरलइ, जब ऊ नवयुवक नियत समय पर ओकन्हीं के  घर के खिड़की के निच्चे नयँ प्रकट होलइ । ओकन्हीं दुन्नु के बीच एगो अपरिभाषित (अज्ञात) संबंध स्थापित हो गेलइ । अपन जगह पर काम पर बैठल ऊ ओकर नगीच आवे के अनुभव करइ - मूड़ी उठावइ, रोज दिन अधिकाधिक देर तक ओकरा दने निहारते रहइ । नवयुवक, लगऽ हलइ, एकरा लगी ओकर आभारी हलइ; ऊ (लिज़ावेता) जवानी के पैनी दृष्टि से देखइ कि जब कभी ओकन्हीं के नजर मिल्लइ, त हरेक तुरी ओकर (नवयुवक के) पीयर गाल पर लाली छा जाय । एक सप्ताह के बाद ऊ (लिज़ावेता) ओकरा दने देखके मुसका देलकइ ...
जब तोम्स्की अपन मित्र के परिचय देवे खातिर काउंटेस के अनुमति मँगलकइ, त ई बेचारी लड़की के दिल धड़धड़ करे लगलइ । लेकिन ई जानके कि नारूमोव इंजीनियर नयँ हइ, बल्कि अश्वारोही सैनिक हइ, ओकरा खेद होलइ कि विवेकहीन प्रश्न करके अपन राज चंचल मन वला तोम्स्की के सामने खोल देलके हल ।
हेर्मान रूस में बस गेल एगो जर्मन के बेटा हलइ, जे ओकरा लगी थोड़े सन पूँजी छोड़ गेले हल । अपन आत्मनिर्भरता के सुदृढ़ करे के आवश्यकता में पक्का विश्वास होला के कारण हेर्मान सूद के पैसा के छूवो नयँ करऽ हलइ, खाली अपन वेतन पर जिनगी बसर करऽ हलइ, लेशमात्र के भी सनक के खुद में आवे नयँ दे हलइ। लेकिन, ऊ अल्पभाषी आउ महत्त्वाकांक्षी हलइ, आउ ओकर सथीवन के ओकर अत्यधिक मितव्ययिता के मजाक उड़ावे के विरले मोक्का मिल्लऽ हलइ । ऊ बहुत भावावेशी आउ प्रचंड कल्पनाशक्ति वला हलइ, लेकिन ओकर दृढ़ता ओकरा जवानी के सामान्य भूल से बचा लेलकइ । ई तरह, मसलन, दिल से एगो जुआड़ी के रूप में ऊ अपन हाथ में कभी ताश नयँ ले हलइ, काहेकि ऊ मानऽ हलइ कि ओकर स्थिति ओकरा एकर अनुमति नयँ दे हलइ (जइसन कि ऊ कहऽ हलइ) कि 'फालतू जीच पावे के उमीद में आवश्यक चीज के बलिदान करे  ', लेकिन साथे-साथ पूरे रात भर ताश के जुआ के टेबुल भिर बैठके गुजारऽ हलइ आउ खेल के विभिन्न हेर-फेर के ज्वरजनित कँपकँपी (अर्थात् उत्तेजना) के साथ देखते रहऽ हलइ ।
तीन पत्ता के खिस्सा ओकर दिमाग पर गहरा प्रभाव डललके हल आउ रातो भर ओकर दिमाग से ई बात नयँ निकसलइ । "की होवइ अगर", दोसरा दिन शाम में पितिरबुर्ग में चक्कर लगइते बखत ऊ सोच रहले हल, "की होवइ, अगर बुढ़िया काउंटेस हमरा सामने अपन राज खोल देइ ! हो सकऽ हइ, ई तीनों विश्वसनीय पत्ता के नाम हमरा बता देइ ! काहे नयँ अपन किस्मत के अजमाके देखल जाय ? ... ओकरा अपन परिचय देवे के चाही, ओकर अनुग्रह के पात्र बन्ने के चाही - हो सकइ त ओकर प्रेमी भी बन जाय के चाही - लेकिन ई सब खातिर समय लगतइ - लेकिन ओकर उमर हइ सतासी साल - ऊ एक सप्ताह में मर जा सकऽ हइ - चाहे दू दिन में ! ... आउ ई खिस्से के लेल जाय ? ... की एकरा पर विश्वास कइल जा सकऽ हइ ? ... नयँ ! खरचा करे में सवधानी, संयम आउ उद्यमशीलता - एहे हमर तीन विश्वसनीय पत्ता हइ, एहे हमर पूँजी के तेगना कर सकऽ हइ, सात गुना कर सकऽ हइ [2] आउ हमरा लगी शांति आउ स्वतंत्रता प्रदान कर सकऽ हइ !"
ई तरह सोच-विचार करते, ऊ खुद के पितिरबुर्ग के एगो मुख्य सड़क पर के एगो पुरनका शैली के घर के सामने पइलकइ । सड़क घोड़ागाड़ी से ठसाठस भरल हलइ, एक के बाद दोसरा करेता (घोड़ागाड़ी) एगो प्रकाशित प्रवेशद्वार तरफ लुढ़क रहले हल । करेता से मिनट-मिनट पर कभी जवान सुन्दरी के नाजुक पाँव, त कभी खड़खड़इते जैकबूट (टेहुना तक के ऊँचाई के चमड़ा के बड़गर सैनिक बूट), त कभी कोय राजनयिक (diplomat) के धारीदार पेताबा (मोजा) आउ बशमाक (जुत्ता) बाहर निकसऽ हलइ । फ़रकोट आउ बरसाती (रेनकोट) शानदार दरबान भिर से गुजरते कौंध रहले हल । हेर्मान रुक गेलइ ।
"ई किनकर घर हइ ?" ऊ कोनमा पर के एगो संतरी से पुछलकइ ।
"काउंटेस *** के", संतरी उत्तर देलकइ ।
हेर्मान काँप गेलइ । आश्चर्यजनक खिस्सा फेर से ओकर कल्पना में आ गेलइ । ऊ घर के आसपास चहलकदमी करे लगलइ, ओकर मालकिन के बारे आउ ओकर चमत्कारिक क्षमता के बारे सोचते । बहुत देर के ऊ अपन साधारण निवासस्थल पर वापिस अइलइ; देर तक ओकरा नीन नयँ अइलइ, आउ जब ओकरा पर नीन हावी हो गेलइ, त ओकरा सपना में ताश के पत्ता, हरियरका टेबुल, बैंकनोट के गड्डी आउ सोना के सिक्का के ढेरी देखाय देलकइ । ऊ पत्ता पर पत्ता जुआ में दाँव पर लगावऽ हलइ, (पत्ता के) कोना के दृढ़तापूर्वक मोड़ऽ हलइ [3], लगातार जीतते जा हलइ, आउ सोना के सिक्का के अपना तरफ घिसकइते आउ बैंकनोट सब के अपन जेभी में ठूँसते जा हलइ । जब ऊ जगलइ त बहुत देरी हो चुकले हल, ऊ अपन काल्पनिक धन के खो गेला पर उच्छ्वास लेलकइ, फेर से शहर के चक्कर लगावे लगी रवाना हो गेलइ आउ फेर से खुद के काउंटेस *** के घर के सामने पइलकइ । कोय अनजान शक्ति, लगऽ हलइ, ओकरा ई घर के तरफ आकृष्ट कर रहले हल । ऊ रुकलइ आउ खिड़कियन दने देखे लगलइ । एक में ओकरा एगो कार केश वला सिर देखाय देलकइ, जे शायद कोय किताब पर चाहे कोय काम पर झुक्कल हलइ । सिर उपरे उठलइ । हेर्मान के ताजगी भरल चेहरा आउ कार- कार आँख देखाय देलकइ । ई क्षण ओकर भाग्य के निर्णय कर देलकइ ।

टिप्पणी:
[1] ई "उच्च समाज के बातचीत" कवि देनिस दविदोव (1784-1839) द्वारा पुश्किन के रिपोर्ट कइल गेले हल । दे॰ पुश्किन के कहानी "निशाना", नोट-5.
[2] ताश के जुआ में दाँव लगाके धन के तेगना आउ सात गुना करे लगी परोली आउ परोली-पे खेले परऽ हलइ । दे॰ अध्याय-1, नोट-4 आउ 12 । तेगना आउ सात गुना कइसे हो जा हइ एकर विस्तृत चर्चा लगी दे॰ ch.7: Thaumaturgy in 'The Queen of Spades', p.170, in: Leighton L. G. (1994): "The Esoteric Traditions in Russian Romantic Literature", Pennsylvania State University Press, viii+224 pp.
[3] दे॰ अध्याय-1, नोट-4.

Tuesday, October 10, 2017

2.19 रूसी कहानी "काला पान के बीवी" ; अध्याय-1

काला पान के बीवी
मूल रूसी शीर्षकः Пиковая дама (पिकऽवायऽ दामा) कहानीकार – अलिक्सान्द्र पुश्किन   
मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद

काला पान के बीवी के अर्थ हइ गुप्त दुर्भावना ।
--- भविष्यवाणी के नवीनतम पुस्तक ।

1
आउ बरसात के दिन में
जामा होवऽ हलइ ओकन्हीं
अकसर;
मनमौजी करते जा हलइ - भगमान ओकन्हीं के क्षमा करे !
- पचास से
सो (दाँव पर लगावऽ हलइ),
आउ जित्तऽ हलइ,
आउ खल्ली से लिखते जा हलइ ।
त अइसे, बरसात के दिन में,
व्यस्त रहऽ हलइ ओकन्हीं
काम में । [1]
एक दिन अश्वारोही सेना के अफसर नारूमोव के हियाँ ताश के जुआ चल रहले हल । जाड़ा के लमगर रात अगोचर रूप से गुजर गेलइ; सुबह के पाँच बजे रात के भोजन लगी लोग बैठते गेलइ । जे जुआ जीत गेले हल, ओकन्हीं रजके खइते गेलइ; बाकी लोग, निराशा में, अपन-अपन खाली प्लेट के सामने बैठल रहलइ । लेकिन जब शैम्पेन अइलइ, त बातचीत सजीव हो उठलइ, आउ सब कोय ओकरा में भाग लेते गेलइ ।
"तोर खेल कइसन रहलो, सूरिन ?" मेजबान पुछलकइ ।
"हार गेलिअइ, हमेशे नियन । ई बात तो स्वीकार करहीं पड़तइ कि हम बदकिस्मत हिअइ - हम तो मिरान्दोल [2] खेलऽ हिअइ, कभियो नयँ उत्तेजित होवऽ हिअइ, कुच्छो से भ्रांत नयँ होवऽ हिअइ, लेकिन तइयो हमेशे हार जा हिअइ !"
"आउ तूँ एक्को तुरी लालच में नयँ पड़लहो ? एक्को तुरी रूते (Routé) [3] के जोखिम नयँ उठइलहो ? ... तोहर दृढ़ता हमरा लगी आश्चर्यजनक हको ।"
"आउ हेर्मान (Hermann) के की हालचाल हइ !" नवयुवक इंजीनियर तरफ संकेत करते अतिथि लोग में से एक कहलकइ, "बचपन से ऊ कभी अपन हाथ में ताश नयँ पकड़लके ह, कभी एक्को परोली (paroli) [4] नयँ झुकइलके ह, लेकिन सुबह के पाँच बजे तक हमन्हीं साथ बैठल रहऽ हइ आउ हमन्हीं के खेल देखते रहऽ हइ !"
"खेल हमरा बड़ी रोचक लगऽ हइ", हेर्मान बोललइ, "लेकिन फालतू चीज प्राप्त करे के आशा में हम आवश्यक चीज के बलिदान करे के स्थिति में नयँ हिअइ ।"
"हेर्मान तो जर्मन हइ - ऊ मितव्ययी हइ, बस, एतने बात हइ !" तोम्स्की टिप्पणी कइलकइ । "आउ अगर हमरा लगी कोय दुर्बोध हइ, त ई हमर दादी हइ, काउंटेस आन्ना फ़िदोतोव्ना ।"
"ऊ कइसे ? काहे ?" अतिथि लोग चिल्ला उठलइ ।
"हमरा तो थाह नयँ लगऽ हइ", तोम्स्की बात जारी रखलकइ, "कि काहे हमर दादी जुआ नयँ खेलऽ हइ !"
"त एकरा में अचरज के की बात हइ", नारूमोव कहलकइ, "कि अस्सी बरिस के एगो बूढ़ी जुआ नयँ खेलऽ हइ ?"
"त अपने ओकरा बारे कुच्छो नयँ जानऽ हथिन ?"
"नयँ ! सचमुच, कुछ नयँ !"
"ओह, त सुनथिन - ई जाने के चाही कि हमर दादी लगभग साठ साल पहिले पेरिस गेले हल आउ हुआँ परी बड़गो फैशनदार हलइ । लोग ओकर पीछू-पीछू भागऽ हलइ, ताकि la Venus moscovite [(फ्रेंच) - मास्को के सौन्दर्य देवी] के एक झलक मिल सके; रिशेल्ये (Richelieu) ओकर दीवाना हलइ आउ दादी विश्वास देलावऽ हइ कि ऊ ओकर क्रूरता के कारण खुद के गोली मारते-मारते बच गेले हल ।
ऊ जमाना में महिला सब फ़ारो खेलते जा हलइ । एक दिन दरबार में ऊ ओरलेआन के ड्यूक (Duke of Orleans) [5] से वचन पर (on word of honour) एगो बड़गो रकम हार गेलइ । घर अइला पर, चेहरा पर से सौन्दर्य बिंदी (beauty spots) उतारते आउ छल्लेदार स्कर्ट (hooped skirt) के खोलते बखत, अपन हारल रकम के बारे दादा जी के बतइलकइ आउ उनका भुगतान करे के औडर देलकइ । स्वर्गीय दादा जी, जाहाँ तक हमरा आद पड़ऽ हइ, हमर दादी के एक प्रकार से प्रबन्धक (steward) हलथिन । ऊ ओकरा से आग नियन डरऽ हलथिन; लेकिन, एतना बड़गो रकम के खेल में हार के बात सुनके ऊ अपन आपा खो देलथिन, सब्भे बिल लाके ओकरा देखइलथिन कि छो महिन्ना में ओकन्हीं पाँच लाख (फ्रैंक) खर्च कर देते गेले ह, कि पेरिस के  आसपास मास्को आउ सरातोव के आसपास नियन अपन जागीर नयँ हइ, आउ भुगतान करे से साफ इनकार कर देलथिन । दादी उनका एक चमेटा लगइलकइ आउ अपन नराजगी जाहिर करे लगी अकेल्ले जाके सुत गेलइ ।
दोसरा दिन दादी ई आशा करते कि घरेलू दंड के उनका पर असर होले होत, अपन पति के बोलवा भेजइलकइ, लेकिन उनका अपन बात पर अटल पइलकइ । जिनगी में पहिले तुरी ऊ उनका साथ तर्क आउ स्पष्टीकरण के हद तक गेलइ; ऊ सोचलकइ कि उनकर अंतःकरण के प्रबोधित कर देतइ, नम्रतापूर्वक ई बतइते कि ऋण ऋण में अंतर होवऽ हइ, आउ ड्यूक आउ शकटकर्ता (गाड़ी बनावे वला) में भेद होवऽ हइ । लेकिन कहाँ ! दादा जी विद्रोह कर देलथिन हल । नयँ, आउ बात खतम ! दादी के समझ में नयँ आ रहले हल कि की करूँ ।
एगो बहुत असाधारण व्यक्ति ओकरा साथ अंतरतम परिचित हलइ । अपने काउंट सेंट-जेर्मेन (Saint-Germain) [6] के नाम सुनलथिन होत, जेकरा बारे एतना सारा अद्भुत बात सुन्नल जा हइ । अपने जानऽ होथिन कि ऊ खुद के शाश्वत यहूदी, जीवन-अमृत आउ दार्शनिक के पत्थर (पारस) के आविष्कारक, आदि आदि बतइलके हल । लोग ओकरा नीम-हकीम समझके हँस्सऽ हलइ, लेकिन कासानोवा [7] अपन संस्मरण में बतावऽ हइ कि ऊ एगो जासूस हलइ; लेकिन सेंट-जेर्मेन अपन रहस्यमयता के बावजूद बहुत आदरणीय व्यक्तित्व वला आउ समाज में बहुत प्रिय व्यक्ति हलइ । आझ तक दादी ओकरा पागलपन के हद तक प्यार करऽ हइ आउ गोस्सा हो जा हइ, अगर कोय ओकरा बारे अनादर के साथ बात करऽ हइ । दादी जानऽ हलइ कि सेंट-जेर्मेन अपन मर्जी से बहुत पैसा उपलब्ध करा सकऽ हलइ । ऊ ओकर आश्रय लेवे के निर्णय कइलकइ ।
ओकरा एगो नोट लिखलकइ आउ अपना हीं बिन कोय देरी कइले आवे लगी निवेदन कइलकइ ।
सनकी बूढ़ा तुरंत प्रकट होलइ आउ ओकरा अत्यंत दुखी पइलकइ । ऊ ओकरा अपन पति के बर्बरता के अत्यंत कार से कार रंग में प्रस्तुत कइलकइ आउ आखिरकार कहलकइ कि ऊ अपन सारा विश्वास ओकर मित्रता आउ सहृदयता पर टिकइले हइ ।
सेंट-जेर्मेन सोच में पड़ गेलइ ।
"हम ई रकम से अपने के सेवा कर सकऽ हिअइ", ऊ बोललइ, "लेकिन जानऽ हिअइ कि अपने के चैन नयँ मिलतइ जब तक कि अपने ई रकम हमरा वापिस नयँ कर दे हथिन, आउ हमरा अपने के आउ नयका परेशानी में डाले के इच्छा नयँ होतइ । दोसर उपाय हकइ - अपने ई रकम वापिस जीत ले सकऽ हथिन ।"
"लेकिन प्रिय काउंट", दादी उत्तर देलकइ, "हम अपने के बोल रहलिए ह कि हमरा पास पैसा बिलकुल नयँ हइ।"
"हियाँ परी पैसा के जरूरते नयँ हइ", सेंट-जेर्मेन प्रत्युत्तर देलकइ, "हमर बात ध्यान से सुन्ने के किरपा करथिन।"
हियाँ परी ऊ ओकरा एगो राज के बात बतइलकइ, जेकरा लगी हमन्हीं में से हरेक कोय भारी कीमत चुका देते हल ...
नवयुवक जुआड़ी लोग दोगना ध्यान से सुन्ने लगलइ । तोम्स्की पाइप सुलगइलकइ, कश लगइलकइ आउ बात जारी रखलकइ ।
ओहे शाम दादी वेर्साल (Versailles, फ्रेंच उच्चारण 'वेर्साय'), ओ ज द ला राइन (au jeu de la Reine) [8], पहुँचलइ । ओरलेआन के ड्यूक पत्ता बाँट रहले हल; दादी जरी सुन खेद प्रकट कइलकइ कि ऊ अपन ऋण के पैसा नयँ लेके अइले हल, स्पष्टीकरण में एगो छोटगर कहानी गढ़ लेलकइ आउ ओकर (ड्यूक के) विरुद्ध जुआ खेले लगलइ । ऊ तीन पत्ता चुनलकइ, एक के बाद दोसरा दाँव पर लगइलकइ - तीनों पत्ता ओकरा लगी सोनिका (sonica) जीत [9] देलकइ, आउ दादी पूरा के पूरा रकम वापिस जीत लेलकइ ।
"संयोग !" अतिथि लोग में से एक बोललइ ।
"मनगढ़ंत कहानी !" हेर्मान टिप्पणी कइलकइ ।
"हो सकऽ हइ कि पत्ता सब में पावडर लगावल [10] होतइ ।" तेसरा कहलकइ ।
"हमरा तो अइसन नयँ लगऽ हइ", तोम्स्की शान के साथ उत्तर देलकइ ।
"वाह !" नारूमोव बोललइ, "तोरा हीं दादी हथुन, जे लगातार तीन जित्ते वला पत्ता के अंदाज लगा ले हथुन, आउ तूँ अभियो तक उनका हीं से ई जादुई शक्ति छीन नयँ पइलँऽ ?"
"मामला एतना असान नयँ हइ !" तोम्स्की उत्तर देलकइ । "ओकर चार बेटा हलथिन, जेकरा में एगो हमर पिताजी हलथिन । चारो पक्का जुआड़ी हलथिन, आउ केकरो ऊ अपन राज के नयँ खोललकइ; हलाँकि उनकनहीं लगी ई खराब नयँ होते हल आउ न हमरे खातिर । लेकिन अइकी हमर चाचा, काउंट इवान इल्यिच, हमरा बतइलथिन हल, जेकरा बारे अपन सम्मान के शपथ लेके विश्वास देलइलथिन हल । स्वर्गीय चापलित्स्की, ओहे जे करोड़ो उड़ाके गरीबी में मरलइ, एक दिन अपन जवानी में जुआ हार गेलइ – ज़ोरिच [11] से, जइसन कि हमरा आद पड़ऽ हइ - लगभग तीन लाख । ऊ निराश हलइ । दादी के, जे हमेशे नवयुवक लोग के सनक के प्रति कठोर हलइ, कइसूँ चापलित्स्की पर तरस आ गेलइ । ऊ ओकरा तीन पत्ता के बारे बता देलकइ, जे ओकरा एक के बाद दोसरा दाँव पर लगावे के चाही हल, आउ ओकरा से शपथ ले लेलकइ कि ओकर बाद फेर कभी जुआ नयँ खेलतइ । चापलित्स्की अपन पहिले जित्ते वला प्रतिद्वन्द्वी भिर प्रकट होलइ आउ दुन्नु जुआ खेले लगी बैठ गेते गेलइ । चापलित्स्की पहिला पत्ता पर पचास हजार दाँव पर लगइलकइ आउ सोनिका जितलइ; परोली मोड़लकइ, फेर परोली-पे (paroli-раiх) [12] - आउ जे कुछ हारले हल ऊ वापिस जीत लेलकइ आउ हियाँ तक कि कुछ फालतू भी पा लेलकइ ...
"लेकिन सुत्ते के समय हो गेलइ - पौने छो बज चुकले ह ।"
वास्तव में उजाला होवे लगले हल । नवयुवक लोग अपन-अपन शराब के गिलास खाली कइलकइ आउ तितर-बितर हो गेते गेलइ ।

टिप्पणी:
[1] पुश्किन द्वारा बिन शीर्षक वला 1828 में खुद के लिक्खल कविता से उद्धृत ।
[2] हियाँ परी के मिरान्दोल खेल, जइसन कि पुश्किन के कहानी "निशाना" में भी चर्चा कइल गेले ह, फ़ारो हइ । एकरा लुई चतुर्दश (Louis XIV) के दरबार से रूस में आयातित कइल गेले हल । ई एगो पक्का जुआ के खेल हलइ, जेकरा में निपुणता आउ रणनीति के जरूरत नयँ हलइ । हरेक खेलाड़ी (पुंटर) अपन ताश के गड्डी से एक पत्ता अपन मन से चुन्नऽ हलइ आउ टेबुल पर एकरा पलटके रख दे हलइ, आउ एकरे पर अपन दाँव लगावऽ हलइ । पत्ता बाँटे वला (बैंकर) ताश के दोसर गड्डी (बिलकुल नावा, अगर दाँव बड़गो होवऽ हलइ) के पत्ता फेंटऽ हलइ आउ पतवन के टेबुल पर उलटके रक्खऽ हलइ - बारी-बारी से अपन दहिना आउ बामा दने । अगर बैंकर के दहिना दने वला पत्ता पुंटर के पत्ता के रैंक (चाहे कउनो रंग के रहे) से मिल जा हलइ, त बैंकर जीत जा हलइ; अगर ओकर बामा दने पड़े वला पत्ता पुंटर के पत्ता के रैंक से मिल जा हलइ, त पुंटर अपन लगावल दाँव के एतना रकम जीत जा हलइ । पुंटर हलाँकि अपन चुन्नल पत्ता के बारे जानऽ हलइ, अपन पत्ता के उलटके सीधा नयँ करऽ हलइ जब तक कि बैंकर द्वारा डालल पत्ता के रैंक से ओकर चुन्नल पत्ता के रैंक मेल नयँ खा हलइ । मिरान्दोल शब्द (जेकर व्युत्पत्ति शायद इटैलियन मिरान्दोला परिवार से मानल जा हइ) फ़ारो में एगो सतर्क चाल निर्दिष्ट करऽ हइ, जेकरा में दाँव छोटगर-छोटगर लगावल जा हइ आउ जित्तल रकम के वापिस ले लेवल जा हइ नयँ कि अगला पारी के दाँव पर रक्खल जा हइ ।
[3] रूते (Routé) - एकर मतलब हलइ कि पुंटर अपन दाँव दोगना करे लगी आउ ताश के ओहे पत्ता के साथ खेले लगी चाहऽ हलइ जे अभी-अभी जीत चुकले ह ।
[4] परोली (paroli) - एकर मतलब हलइ कि पुंटर जितला के बाद अपन जित्तल रकम के नयका दाँव में शामिल करे लगी चाहऽ हलइ, अर्थात् मूल दाँव के दोबर करे लगी । ई बात के निर्देश करे लगी ऊ नयका चुन्नल पत्ता के एक कोना के निच्चे दने मोड़ दे हलइ। दे॰ पुश्किन के कहानी "निशाना", नोट-2.
[5] ओरलेआन के ड्यूक (duc d'Orléans) - स्पष्टतः ई लुई-फ़िलिप, ओरलेआन के ड्यूक (I725-85) हलइ आउ फ़िलिप तृतीय, ओरलेआन के ड्यूक (1674-1723) के पोता हलइ । फ़िलिप तृतीय, लुई चतुर्दश (Louis XIV) के निधन के बाद 1715 में फ्रांस के प्रतिशासक (Regent) होले हल ।
[6] सेंट-जेर्मेन (Saint-Germain) - Comte de Saint Germain (फ्रेंच उच्चारण " कौँ द सैँ जैरमैँ ") (1691-1784) एगो यूरोपीय जोखिमबाज हलइ आउ विज्ञान आउ कला में रुचि ले हलइ । अठरहमी शताब्दी के मध्य में यूरोपीय उच्च वर्ग में ओकर बड़गो नाम हलइ । एकरा एगो महानतम दार्शनिक मानल जा हलइ । अपन कइएक नाम आउ उपाधि के प्रयोग करऽ हलइ । खुद के 500 वर्ष के बतावऽ हलइ ।
[7] कासानोवा - जियाकोमो कासानोवा द साइनगाल्त (Giacomo Casanova de Seingalt) (1725-1798) विख्यात इटैलियन जोखिमबाज, जेकर संस्मरण मरणोपरान्त पुश्किन के समय में ही बारह खंड में प्रकाशित होले हल (1826-38) । पुश्किन सेंट-जेर्मेन के चरित्र अधिकांश कासानोवा के संस्मरण से हीं लेलथिन हँ; लेकिन अर्थर माचेन (Arthur Machen) के ई संस्मरण के संपूर्ण अंगरेजी संस्करण में तो कासानोवा कभियो काउंट के गुप्तचर के रूप में उल्लेख नयँ कइलके ह (ओकर तीन मुठभेड़ खातिर दे॰ खंड-3, अ॰3, 10; खंड-5, अ॰16) । ऊ अपन तेहत्तर साल के जिनगी में, जइसन कि ओकर संस्मरण से स्पष्ट होवऽ हइ, इटली, फ्रांस, जर्मनी, आस्ट्रिया, इंग्लैंड, स्विटज़रलैंड, बेल्जियम, रूस, स्पेन, हॉलैंड, तुर्की के यात्रा कइलके हल आउ ई सब देश के बड़गो हस्ती लोग से मिलले हल । ऊ अकसर अपन रचना में याक कासानोवा द साइनगाल्त (Jacques Casanova de Seingalt) के नाम से दसखत करऽ हलइ, जब ऊ अपन वेनिस से द्वितीय निर्वासन के बाद फ्रेंच में लिखना चालू कइलके हल ।
[8] ओ ज द ला राइन (au jeu de la Reine) - "महारानी के हियाँ ताश के पार्टी में".
[9] सोनिका (Sonica) - सोनिका जीत के मतलब हलइ कि खेलाड़ी (पुंटर) नयका पारी में पहिलौके तुरी ताश के पलटला पर जीत गेलइ ।
[10] पत्ता सब में पावडर लगावल होतइ - ई सरल खेल में पुंटर एक्के तरह से बेईमानी कर सकऽ हलइ - ताश के गड्डी में चिपकाहा पावडर डाल देल जाय जेकरा मेटा देल जा सकइ ताकि बाद में अगर ऊ देखइ कि ई रैंक से हार रहलूँ हँ त एकरा मेटाके रैंक बदल देल जा सकइ ।
[11] ज़ोरिच - सिम्योन गवरिलोविच ज़ोरिच (1745-1799), महारानी एकातेरिना द्वितीय के एगो कृपापात्र, जुआ के दीवाना ।
[12] परोली-पे (paroli-раiх) - चापलित्स्की अपन दाँव के दोगना कइलकइ (परोली), आउ जीत गेलइ । फेर उ अपन जित्तल कुल रकम के शामिल करके दोगना दाँव पर लगइलकइ (परोली-पे), जे पत्ता के बीच में मोड़के इंगित कइल जा हलइ ।
ई कहानी पर दाँव संबंधी विस्तृत चर्चा खातिर दे॰ ch.7: Thaumaturgy in 'The Queen of Spades' in: Leighton L. G. (1994): "The Esoteric Tradition in Russian Romantic Literature", Pennsylvania State University Press, viii+224 pp.

Thursday, October 05, 2017

2.18 रूसी कहानी "निशाना"

निशाना
मूल रूसी शीर्षकः Выстрел (विस्त्रेल) ; कहानीकार - पुश्किन ;    मगही अनुवाद - नारायण प्रसाद
हमन्हीं एक दोसरा पर गोली चलइते गेलिअइ ।
--- बरातिन्स्की [1]
द्वन्द्वयुद्ध के नियमानुसार हम ओकरा गोली चलाके मार देवे के प्रण कइलिए हल
(एकरा लगी अभियो हमर पारी बाकी हलइ) ।
--- पड़ाव के एक शाम [2]

1
हमन्हीं सब *** बस्ती में तैनात हलिअइ । पैदल सेना के अफसर के जिनगी तो सब के मालुम हइ । सुबह में प्रशिक्षण, घुड़सवारी के अभ्यास; रेजिमेंट कमांडर के हियाँ चाहे कोय यहूदी के शराबखाना में दुपहर के भोजन; शाम में पंच (शराब में पानी, फल के रस, मसाला आदि के मिश्रित पेय) आउ ताश । बस्ती *** में एक्को घर हमन्हीं लगी खुल्ला नयँ हलइ, न विवाह के लायक एक्को लड़की; हम सब एक दोसरा के हियाँ जामा होते जा हलिअइ, जाहाँ परी वरदी के अलावा आउ कुच्छो नयँ देखाय दे हलइ ।
हमन्हीं के मंडली में खाली एक्के अदमी हलइ, जे फौजी नयँ हलइ । ऊ लगभग पैंतीस बरिस के हलइ, आउ ओहे से हमन्हीं ओकरा बुजुर्ग मानते जा हलिअइ । अनुभव ओकरा हमन्हीं सामने कइएक तरह से श्रेष्ठता प्रदान करऽ हलइ; एकरा अलावे, ओकर सामान्य उदासी, उग्र स्वभाव आउ जहरीला जबान के हमन्हीं नवयुवक लोग के मस्तिष्क पर गहरा असर हलइ । कुछ तो रहस्य ओकर भाग्य के घेरले हलइ; देखे में ऊ रूसी लगऽ हलइ, लेकिन नाम ओकर विदेशी हलइ । कभी ऊ हुस्सार रेजिमेंट में सेवा कइलके हल, आउ सफलतापूर्वक भी; केकरो ई बात के कारण मालुम नयँ हलइ कि ऊ काहे लगी सेवानिवृत्त होके एगो छोटगर साधारण बस्ती में आके बस गेले हल, जाहाँ परी ऊ दयनीय हालत में आउ साथे-साथ फजूलखर्ची वला भी जिनगी जीयऽ हलइ - फट्टल-फुट्टल कार फ्रॉककोट पेन्हले, हमेशे पैदल चल्लऽ हलइ, तइयो हमन्हीं के रेजिमेंट के सब्भे अफसर लगी अपन घर स्वागत लगी खुल्लल रक्खऽ हलइ । ई बात सही हइ कि ओकर भोजन में खाली दू चाहे तीन व्यंजन होवऽ हलइ, जेकरा एगो सेवानिवृत्त सैनिक तैयार करऽ हलइ, लेकिन शैम्पेन के नदी बहऽ हलइ । केकरो पता नयँ हलइ कि ओकर हैसियत की हइ, आउ ओकर आमदनी केतना हइ, आउ एकरा बारे ओकरा से पुच्छे के कोय नयँ हिम्मत करऽ हलइ । ओकरा हीं कइएक पुस्तक हलइ, अधिकतर सेना से संबंधित आउ उपन्यास । ऊ खुशी से एकरा पढ़े लगी दे हलइ, लेकिन वापिस कभी नयँ माँगऽ हलइ; आउ खुद्दे केकरो से उधार लेल पुस्तक के कभियो ओकर मालिक के वापिस नयँ करऽ हलइ । मुख्य रूप से पिस्तौल से गोली चलावे में ऊ खुद के व्यस्त रक्खऽ हलइ । ओकर कमरा के देवाल सब गोली से छलनी होल हलइ, आउ मधुमक्खी के छत्ता नियन लगऽ हलइ । जे मट्टी के साधारण घर में ऊ रहऽ हलइ, ओकरा में पिस्तौल के कीमती संग्रह एकमात्र विलासिता के वस्तु हलइ । (निशानेबाजी के) दक्षता, जे ऊ हासिल कइलके हल, अविश्वसनीय हलइ, आउ अगर ऊ केकरो टोपी पर के नाशपाती के गोली से बेधे के इच्छा प्रकट करते हल, त हमर रेजिमेंट के कोय भी ओकरा सामने अपन सिर के प्रस्तुत करे में नयँ हिचकिचइते हल । हमन्हीं बीच बातचीत अकसर द्वन्द्वयुद्ध से संबंधित रहऽ हलइ; सिल्वियो (हम ओकरा एहे नाम देबइ) एकरा में कभी नयँ पड़ऽ हलइ । ई प्रश्न पर, कि की ओकरा कभी द्वन्द्वयुद्ध से पाला पड़ले हल, ऊ शुष्क रूप से उत्तर दे हलइ, कि हाँ, पाला पड़ले हल, लेकिन एकर विवरण में कभी प्रवेश नयँ करऽ हलइ, आउ ई बात साफ हलइ, कि अइसन प्रश्न ओकरा लगी अप्रिय हलइ । हमन्हीं ई मानऽ हलिअइ कि ओकर अंतःकरण में ओकर ई भयंकर दक्षता के कइसनो अभागल शिकार बोझ नियन पड़ल हलइ । लेकिन हमन्हीं के मस्तिष्क में कभी ई आशंका नयँ होलइ कि ओकरा में कायरता नाम के कोय चीज हइ । अइसन लोग हइ, जेकर खाली प्रकट होना अइसन आशंका के दूर कर दे हइ । लेकिन एगो अप्रत्याशित घटना हमन्हीं के अचरज में डाल देलकइ ।
एक दिन हमन्हीं कोय दस अफसर सिल्वियो के हियाँ दुपहर के भोजन कर रहलिए हल । हमेशे नियन पीते गेलिअइ, मतलब बहुत जादे; भोजन के बाद मेजबान के हमन्हीं सब लगी नाल रक्खे लगी (to hold the bank) अर्थात् बैंकर बने लगी निवेदन करते गेलिअइ । ऊ बहुत देर तक इनकार करते रहलइ, काहेकि ऊ लगभग कभी नयँ जूआ खेलऽ हलइ; आखिरकार ताश मँगवइलकइ, दस-दस रूबल के पचास सिक्का टेबुल पर डललकइ आउ ताश के पत्ता बाँटे लगी बैठ गेलइ । हमन्हीं ओकरा घेरके बैठ गेते गेलिअइ, आउ खेल शुरू हो गेलइ । सिल्वियो के खेल के दौरान बिलकुल चुप रहे के आदत हलइ, कभियो विवाद नयँ करऽ हलइ आउ न कोय बात के सफाई दे हलइ। अगर दाँव लगावे वला (punter) गणना करे में कोय गलती करऽ हलइ, त ऊ तुरतम्मे खयँ तो ओकरा अतिरिक्त रकम के भुगतान कर दे हलइ, खयँ ओकरा लिख ले हलइ। हमन्हीं के ई (अर्थात् ओकर आदत के बारे) मालुम हलइ आउ ओकरा अपन मन के अनुसार करे में दखल नयँ दे हलिअइ; लेकिन हमन्हीं बीच अबरी एगो अफसर हलइ, जे हाले में स्थानान्तरित होके हमन्हीं के रेजिमेंट में अइले हल। ऊ हिएँ परी हमन्हीं साथ खेलते बखत अन्यमनस्कता से एक पत्ता के कोना निच्चे मोड़ देलकइ। सिल्वियो खल्ली (chalk) लेलकइ आउ अपन आदत के मोताबिक हिसाब ठीक कर देलकइ । अफसर, ई सोचके कि ऊ (सिल्वियो) गलती कइलकइ, अपन सफाई देवे लगलइ । सिल्वियो चुपचाप पत्ता बाँटते रहलइ । अफसर अधीर होके एगो ब्रश लेलकइ आउ जे ओकरा फालतू लिक्खल लग रहले हल ओकरा मिटा देलकइ । सिल्वियो खल्ली लेलकइ आउ फेर से लिख देलकइ । शराब, खेल आउ साथी सब के हँसी से उत्तेजित अफसर एकरा अपन बड़गो अपमान समझलकइ, आउ क्रोधावेश में टेबुल पर से तामा के शमादान पकड़के सिल्वियो पर दे मालकइ, जेकर प्रहार से कइसूँ थोड़े सुन एक दने झुकके ऊ खुद के बचा लेलकइ । हम सब संकोच में पड़ गेलिअइ । सिल्वियो उठलइ आउ बोललइ, गोस्सा से ओकर चेहरा पीयर हो गेले हल, आउ ओकर आँख चमक रहले हल - "प्रिय महोदय, हियाँ से निकस जाय के किरपा करथिन आउ भगमान के धन्यवाद देथिन कि ई घटना हमर घर में होलइ ।"
हमन्हीं सब के ई बात में कोय शंका नयँ हलइ कि एकर नतीजा की होतइ आउ नयका साथी के अब मरल समझ लेलिअइ । अफसर ई कहते बाहर निकस गेलइ कि ऊ अपन अपमान के उत्तर देवे लगी तैयार हइ, जइसे भी बैंकर महोदय के सुविधाजनक होवइ । खेल कुछ आउ देर तक चलते रहलइ; लेकिन ई अनुभव करते कि मेजबान के खेल में अब मन नयँ लग रहले ह, हमन्हीं सब एक के बाद दोसरा विदा हो गेते गेलिअइ आउ (रेजिमेंट में) जल्दीए एक स्थान खाली होवे के बारे बतिअइते अपन-अपन क्वाटर चल गेते गेलिअइ ।
दोसरा दिन घुड़सवारी के अभ्यास के दौरान हम सब आपस में पूछताछ करिए रहलिए हल कि ऊ बेचारा लेफ़्टेनेंट अभी जिंदा हइ कि नयँ, कि तभिए खुद ऊ हमन्हीं बीच प्रकट हो गेलइ; हमन्हीं ओकरा से ओहे प्रश्न कइलिअइ । ऊ उत्तर देलकइ कि ओकरा सिल्वियो से अभी तक कोय सूचना नयँ मिलले ह । ई बात हमन्हीं के अचरज में डाल देलकइ । हमन्हीं सिल्वियो हीं गेलिअइ आउ ओकरा प्रांगण (अहाता) में पइलिअइ, जे गेट पर चिपकावल (ताश के) एगो एक्का पर गोली पर गोली चलाब करऽ हलइ । ऊ हमन्हीं के हमेशे नियन स्वागत कइलकइ, कल्हे के घटना के बारे बिन कोय शब्द अपन मुँह से निकासले । तीन दिन गुजर गेलइ, आउ लेफ़्टेनेंट अभियो जिंदा हलइ । हमन्हीं अचरज से पूछ रहलिए हल - की सिल्वियो वास्तव में द्वन्द्वयुद्ध नयँ करतइ ? सिल्वियो द्वन्द्वयुद्ध नयँ कइलकइ । ऊ (ओकर) एगो बिलकुल सहज सफाई से संतुष्ट हो गेलइ आउ सुलह कर लेलकइ ।
ई युवा जन के दृष्टि में ओकरा लगी सम्मान में कमी लावे वला बात हलइ । साहस के कमी युवा लोग द्वारा सबसे कम क्षमा कइल जा हइ, जे वीरता में साधारणतः सर्वोत्तम मानवीय गुण देखऽ हइ आउ सब तरह के संभव दुर्गुण के क्षमा कर दे हइ । लेकिन धीरे-धीरे सब कुछ भुला देवल गेलइ, आउ सिल्वियो फेर से अपन पहिलौका प्रभाव प्राप्त कर लेलकइ ।
एगो हमहीं अभी तक ओकर नगीच नयँ आ पइलिए हल । स्वभाव से रोमानी कल्पना वला हमरा ई अदमी के प्रति सबसे अधिक लगाव हलइ, जेकर जिनगी एगो रहस्य हलइ आउ जे हमरा एगो कहानी के रहस्यमय नायक (हीरो) लगऽ हलइ । ऊ हमरा मानऽ हलइ; कम से कम हमरा साथ तो हमेशे के अपन तीक्ष्ण द्वेषपूर्ण बोली त्याग दे हलइ आउ विविध विषय पर सहज तरीका से आउ असाधारण सहृदयता से बात करऽ हलइ । लेकिन ई अप्रिय शाम के बाद ई विचार, कि ओकर प्रतिष्ठा कलंकित हो गेले ह आउ ओकर खुद के दोष के चलते धोवल नयँ गेले ह, हमर दिमाग से निकसऽ नयँ हलइ आउ हमरा पहिले नियन ओकरा से व्यवहार करे में बाधा डाल रहले हल; हमरा ओकरा दने नजर डाले में संकोच होवऽ हलइ । सिल्वियो बहुत बुद्धिमान आउ अनुभवी हलइ, आउ अइसन नयँ हो सकऽ हलइ कि ई बात के भाँप नयँ सकते हल आउ एकर कारण के अंदाज नयँ लगा पइते हल । हमरा लगलइ कि ई बात ओकरा कष्ट दे हलइ; कम से कम हम एक-दू तुरी ओकरा में खुलके बात करे के इच्छा नोटिस कइलिअइ; लेकिन हम अइसन अवसर से बच्चे के प्रयास कइलिअइ, आउ सिल्वियो हमरा अपन हाल पर छोड़ देलकइ । तहिया से हम ओकरा साथ खाली साथी लोग के उपस्थिति में हीं भेंट करऽ हलिअइ, आउ हमन्हीं के पहिलौका नियन खुलके बातचीत करना बंद हो गेलइ ।
रोजमर्रा के जिनगी में जादे व्यस्तता के कारण राजधानी के वासी लोग के अइसन कइएक अनुभव के बारे कोय ज्ञान नयँ होवऽ हइ, जेकरा से गाँव चाहे छोटगर शहर के लोग एतना परिचित रहऽ हइ, उदाहरणस्वरूप डाक के दिन के प्रतीक्षा - मंगलवार आउ शुक्रवार के हमन्हीं के रेजिमेंट के मुख्यालय अफसर लोग से भरल रहऽ हलइ - केकरो पैसा के इंतजार रहऽ हलइ, केकरो पत्र के, केकरो अखबार के । पैकेट साधारणतः हिएँ परी खोल देल जा हलइ, समाचार एक दोसरा के सुनावल जा हलइ, आउ मुख्यालय एगो अत्यंत सजीव चित्र प्रस्तुत करऽ हलइ । सिल्वियो के पत्र हमन्हीं के रेजिमेंट के पता पर आवऽ हलइ, आउ ऊ साधारणतः हिएँ परी उपस्थित रहऽ हलइ । एक दिन ओकरा एगो पैकेट मिललइ, जेकर सील ऊ बड़गो अधीरता के मुद्रा में तोड़लकइ। पत्र पढ़ते बखत ओकर आँख चमक रहले हल । अफसर लोग में से हरेक कोय के अपन-अपन पत्र में व्यस्त रहे के चलते, केकरो ओकरा पर ध्यान नयँ गेलइ । "भद्रजन", सिल्वियो ओकन्हीं के संबोधित कइलकइ, "परिस्थिति हमर त्वरित प्रस्थान के माँग करऽ हइ; आझे रात के चल जइबइ; आशा करऽ हिअइ कि अपने सब हमरा हीं अंतिम तुरी भोजन करे लगी इनकार नयँ करते जइथिन । हम अपने के भी राह देखबइ", हमरा संबोधित करते ऊ बात जारी रखलकइ, "अपने के राह अनिवार्य रूप से देखबइ ।" एतना कहके ऊ जल्दी-जल्दी निकस गेलइ; आउ हमन्हीं, सिल्वियो के हियाँ एकत्र होवे लगी सहमति देके, अपन-अपन काम से चल गेते गेलिअइ ।
हम सिल्वियो के हियाँ नियत समय पर आ गेलिअइ आउ ओकरा हीं करीब पूरा रेजिमेंट के पइलिअइ । ओकर सब समान पैक कइल हलइ; रह गेले हल गोली से छलनी कइल खाली नंगा देवाल सब । हमन्हीं टेबुल भिर बैठ गेते गेलिअइ; मेजबान अत्यधिक जोश में हलइ आउ जल्दीए ओकर खुशी में सब कोय खुश हो गेलइ;  मिनट-मिनट पर (शैम्पेन के बोतल के) कॉर्क फटाक के साथ खुल रहले हल, गिलास लगातार फेनाब आउ फुफकारब करऽ हलइ, आउ हमन्हीं यथासंभव उत्साह के साथ प्रस्थान करे वला के शुभ यात्रा आउ हर तरह के शुभ के कामना कर रहलिए हल । शाम के काफी देर से टेबुल भिर से उठते गेलिअइ । जब लोग अपन-अपन टोपी लगाके विदा होवे लगलइ, त सिल्वियो सबके विदा करते हमर हाथ पकड़ लेलकइ आउ ठीक ओहे पल रोक लेलकइ, जब हम बाहर निकसहीं वला हलिअइ । "हमरा अपने से जरी बतिआय के हइ", ऊ कोमल स्वर में बोललइ । हम रुक गेलिअइ ।
मेहमान सब चल गेलइ; हमन्हीं दुइए गो रह गेलिअइ, एक दोसरा के आमने-सामने बैठ गेलिअइ आउ चुपचाप पाइप पीए लगलिअइ । सिल्वियो विचारमग्न हलइ; ओकर आवेशी खुशी के लेशमात्र तक नयँ रह गेले हल । उदासी भरल पीलापन, चमकइत आँख आउ ओकर मुँह से निकसइत घनगर धुआँ ओकरा वास्तविक शैतानी मुद्रा प्रदान करब करऽ हलइ । कुछ मिनट बीत गेलइ, आउ सिल्वियो अपन चुप्पी तोड़लकइ ।
"हो सकऽ हइ कि हमन्हीं के फेर कभियो भेंट नयँ हो पावइ", ऊ हमरा से कहलकइ; "आउ जुदा होवे से पहिले हम अपने से बतिआय लगी चाहऽ हलिअइ । अपने नोटिस कइलथिन होत कि दोसर लोग (हमरा बारे) की सोचते जा हइ, हम ओकरा पर बहुत कम ध्यान दे हिअइ; लेकिन हम अपने के मानऽ हिअइ, आउ हमरा लगऽ हइ कि अपने के मस्तिष्क पर कोय गलत छाप रहे देवे से हमर मन में एगो बोझ नियन बन्नल रहतइ ।"
ऊ रुकलइ आउ अपन बुज्झल पाइप में तमाकू भरे लगलइ; हम नजर झुकइले चुप रहलिअइ ।
"अपने के विचित्र लगले होत", ऊ बात जारी रखलकइ, "कि हम ई पियक्कड़ पागल र*** से संतुष्टि के माँग नयँ कइलिअइ । अपने ई बात से सहमत होथिन, कि हमरा हथियार चुन्ने के हक होवे के कारण ओकर जिनगी हम्मर हाथ में हलइ, जबकि हमर जिनगी लगभग खतरा के बाहर । हम संयम के श्रेय खाली अपन उदारता के दे सकऽ हलिअइ, लेकिन हम झूठ बोले लगी नयँ चाहऽ हिअइ । अपन जिनगी के बिन कोय खतरा में डालले अगर हम र*** के दंडित कर सकऽ हलिअइ, त हम ओकरा कउनो हालत में माफ नयँ कर सकतिए हल ।"
हम अचरज भरल निगाह से सिल्वियो दने देख रहलिए हल । अइसन स्वीकारोक्ति (confession) हमरा बिलकुल स्तंभित कर देलकइ । सिल्वियो बात जारी रखलकइ ।
"बिलकुल एहे बात हइ - हमरा अपन जिनगी के मौत के खतरा में डाले के कोय हक नयँ हइ । छो साल पहिले हमर चेहरा पर कोय तमाचा लगइलके हल, आउ हमर दुश्मन अभियो तक जिंदा हइ ।"
हमर उत्सुकता बहुत जादे जागृत हो गेलइ ।
"त अपने ओकरा साथ द्वन्द्वयुद्ध नयँ कइलथिन ?" हम पुछलिअइ । "परिस्थिति, शायद, अपने दुन्नु के एक दोसरा से दूर कर देलकइ ?"
"हम ओकरा साथ द्वन्द्वयुद्ध तो कइलिअइ", सिल्वियो उत्तर देलकइ, "आउ अइकी हमन्हीं के द्वन्द्वयुद्ध के स्मारक हइ ।"
सिल्वियो उठ गेलइ आउ गत्ता के डिब्बा से सुनहरा गुच्छा आउ फीता वला लाल टोपी (जेकरा फ्रेंच लोग "bonnet de police" अर्थात् पुलिस के टोपी कहते जा हइ) निकसलकइ; ऊ ओकरा पेन्ह लेलकइ; एकरा में निरार के उपरे करीब एक विर्शोक (= 4.44 सेंमी॰) गोली से छेदल हलइ ।
"अपने जानऽ हथिन", सिल्वियो बात जारी रखलकइ, "कि हम *** हुस्सार रेजिमेंट में सेवा में हलिअइ । हमर स्वभाव से अपने परिचित हथिन - सबसे आगू रहना हमर आदत हइ, लेकिन जवानी से ई हमर जुनून हलइ । हमन्हीं के समय में हंगामा करना एगो फैशन हलइ - हम हुड़दंग करे में पूरे सेना में अव्वल रहऽ हलिअइ । हमन्हीं नशाखोरी के डींग हाँकऽ हलिअइ - हम तो (एक तुरी) मशहूर बुर्त्सोव [3] से भी जादे पी लेलिए हल, जेकर देनिस दविदोव [3] बड़ी गुनगान कइलथिन हँ । द्वन्द्वयुद्ध हमन्हीं के रेजिमेंट में मिनट-मिनट पर होवऽ हलइ - हम सब्भे में खयँ तो गोवाह रहऽ हलिअइ, खयँ खुद हिस्सा ले हलिअइ । साथी लोग हमर सम्मान करऽ हलइ, आउ रेजिमेंट के कमांडर लोग, जेकर अकसर बदली होते रहऽ हलइ, हमरा एगो अनिवार्य बला मानते जा हलइ ।
"हम शांतिपूर्वक (चाहे अशांतिपूर्वक) अपन ख्याति के मजा ले रहलिए हल, कि हमन्हीं के रेजिमेंट में धनवान आउ जानल-मानल परिवार से एगो नवयुवक (हम ओकर नाम लेवे लगी नयँ चाहऽ हिअइ) योगदान कइलकइ। जिनगी में हम अइसन भव्य भाग्यशाली अदमी नयँ देखलिए हल ! जरी कल्पना करथिन - जवानी, बुद्धि, सौन्दर्य, अत्यंत प्रचंड खुशी, अत्यंत लापरवाह बहादुरी, गूँजइत नाम, बेहिसाब पैसा, जे ओकरा पास कभी खतम नयँ होवऽ हलइ, आउ कल्पना करथिन कि कइसन प्रभाव ऊ हमन्हीं बीच डललके होत । हमर चंपियनशिप डोल गेलइ । हमर प्रतिष्ठा से आकृष्ट होके ऊ हमरा से दोस्ती करे लगी चहलकइ; लेकिन हम ओकरा साथ भावशून्य मुद्रा में व्यवहार कइलिअइ, आउ ऊ बिन कोय अफसोस के हमरा से दूर हो गेलइ । हमरा ओकरा प्रति घृणा उत्पन्न होवे लगलइ । रेजिमेंट आउ औरतियन के समाज में ओकर सफलता हमरा बिलकुल निराश कर देलकइ । हम ओकरा साथ झगड़ा करे के मौका ढूँढ़े लगलिअइ; हमर फबती (epigrams) के उत्तर ऊ फबती से दे हलइ, जे हमेशे हमरा अपन फबती के अपेक्षा अधिक अप्रत्याशित आउ तीक्ष्ण प्रतीत होवऽ हलइ आउ जे, निस्संदेह, अद्वितीय रूप से (incomparably) अधिक मनोरंजक होवऽ हलइ - ऊ मजाक करऽ हलइ आउ हम गोस्सा करऽ हलिअइ । आखिरकार एक दिन पोलिस्तानी (Polish) जमींदार के हियाँ बॉल नृत्य में सब्भे महिला के ओकरा ध्यान के केन्द्र देखके, आउ विशेष करके खुद गृह-स्वामिनी (hostess) के, जेकर हमरा साथ संबंध हलइ, हम ओकर कान में कुछ तो गँवारू अपमानजनक शब्द फुसक देलिअइ । ऊ क्रोधावेश में आ गेलइ आउ हमर मुँह पर चमेटा जड़ देलकइ । हमन्हीं दुन्नु तलवार दने झपट पड़लिअइ; महिला सब तो मूर्छित हो गेते गेलइ; हमन्हीं दुन्नु के घींचके अलगे कर देल गेलइ, आउ ओहे रात के हमन्हीं द्वन्द्वयुद्ध खातिर चल पड़लिअइ ।
ई घटना भोरे-भोरे घटलइ । हम नियत जगह पर अपन तीन सेकेंड (गोवाह) के साथ खड़ी हलिअइ । हम अनिर्वचनीय अधीरता के साथ प्रतिद्वन्द्वी के राह देखब करऽ हलिअइ । वसंत के सूरज उग गेलइ, आउ गरमी चढ़ना चालू हो चुकले हल । हम ओकरा दूर से अइते देखलिअइ । ऊ पैदल आब करऽ हलइ, वरदी के तलवार के नोक पर टाँगले हलइ, आउ साथ में एगो सेकेंड हलइ । हमन्हीं ओकन्हीं तरफ बढ़लिअइ । ऊ नगीच आब करऽ हलइ, आउ हाथ में टोपी लेले हलइ जेकरा में चेरी फल भरल हलइ । सेकेंड लोग हमन्हीं लगी बारह कदम नापते गेलइ । हमरा पहिले फ़ायर करे के हलइ, लेकिन ईर्ष्या के कारण हम एतना तीव्र क्रोधावेश में हलिअइ कि हम अपन हाथ पर विश्वास नयँ कइलिअइ (कि गोली चलाते बखत हमर हाथ नयँ डोलतइ), आउ हम खुद के शांत होवे लगी कुछ समय देवे खातिर ओकरा पहिले फ़ायर करे लगी कहलिअइ - हमर प्रतिद्वन्द्वी सहमत नयँ होलइ । पर्ची उछलाके पारी तय करे के फैसला कइल गेलइ - हमेशे के मुकद्दर के ऊ सिकंदर के पहिला नंबर अइलइ । ऊ निशाना सधलकइ आउ (ओकर निशाना चूक जाय से) गोली हमर टोपी के छेदते निकस गेलइ । अब हम्मर पारी हलइ । आखिरकार ओकर जिनगी हम्मर हाथ में हलइ; हम ओकरा दने  आतुरतापूर्वक एकटक देख रहलिए हल, ई प्रयास करते कि ओकर चेहरा पर कहीं घबराहट के लेशमात्र भी हइ कि नयँ ... ऊ हमर पिस्तौल के निशाना पर खड़ी हलइ, आउ टोपी से पक्कल चेरी फल निकास-निकासके खाब करऽ हलइ आउ ओकर गुठली थूक-थूकके फेंकब करऽ हलइ, जे उड़के हमरा भिर तक पहुँचब करऽ हलइ। ओकर भावशून्यता हमरा क्रोधोन्मत्त बनाब करऽ हलइ । हम सोचलिअइ, ओकरा जिनगी से वंचित करे से हमरा की फयदा, जबकि ऊ एकर कोय मोल नयँ समझऽ हइ ? एगो द्वेषपूर्ण विचार हमर मस्तिष्क में कौंध गेलइ । हम पिस्तौल निच्चे कर लेलिअइ ।
"अपने के, लगऽ हइ, अभी मरे के फुरसत नयँ हइ", हम ओकरा कहलिअइ, "अपने नाश्ता करे के किरपा कर रहलथिन हँ; हमरा अपने के बाधा देवे के इच्छा नयँ करऽ हइ ..."
"अपने हमरा बिलकुल नयँ बाधा देब करऽ हथिन", ऊ एतराज कइलकइ, "फ़ायर करे के किरपा करथिन, लेकिन तइयो, जइसन अपने के मर्जी; अपने के फ़ायर करे के पारी बन्नल रहतइ; हम अपने के सेवा में हमेशे तैयार रहबइ ।" हम सेकेंड लोग तरफ मुड़लिअइ, आउ ई घोषित कइलिअइ कि अभी हमरा फ़ायर करे के इरादा नयँ हइ, आउ एकरे साथ द्वन्द्वयुद्ध समाप्त हो गेलइ ।
हम सेवानिवृत्त हो गेलिअइ आउ ई स्थान में चल अइलिअइ । तहिया से एक्को दिन अइसन नयँ गुजरलइ, जब हम बदला के बारे नयँ सोचलिअइ । अब हमर समय आ गेले ह ...
सिल्वियो सुबह में प्राप्त कइल पत्र जेभी से निकसलकइ आउ ओकरा पढ़े लगी हमरा देलकइ । कोय तो (शायद, ओकर विश्वसनीय वकील) मास्को से ओकरा लिखलके हल कि ऊ व्यक्तिविशेष जल्दीए एगो नवयुवती आउ सुंदर लड़की से वैध विवाह करे वला हइ ।
"अपने अंदाज लगा सकऽ हथिन", सिल्वियो कहलकइ, "कि ई व्यक्तिविशेष केऽ हइ । मास्को जा रहलिए ह । देखबे करबइ, कि अपन शादी के पहिले ओइसने भावशून्यता अपन मौत के मामले में बरकरार रक्खऽ हइ कि नयँ, जइसन कि कभी ऊ चेरी फल खइते-खइते एकर इंतजार कर रहले हल !"
एतना कहके सिल्वियो उठ गेलइ, अपन टोपी फर्श पर फेंक देलकइ, आउ पिंजड़ा में बंद बाघ नियन, कमरा में शतपथ (चहलकदमी) करे लगलइ । हम बिन हिलले-डुलले ओकर बात सुन रहलिए हल; विचित्र, परस्पर विरोधी भावना हमरा व्याकुल कर रहले हल ।
नौकर अंदर अइलइ आउ बतइलकइ कि घोड़ा तैयार हइ । सिल्वियो जोर से दबाके हमरा साथ हाथ मिलइलकइ; हमन्हीं एक दोसरा के चुमलिअइ । ऊ गाड़ी में चढ़लइ, जाहाँ परी दू गो ट्रंक पड़ल हलइ, जेकरा में से एगो में पिस्तौल सब हलइ, आउ दोसरा में ओकर सर-समान । हमन्हीं फेर एक तुरी अलविदा कहलिअइ, आउ घोड़वन सरपट दौड़ पड़लइ ।
2
कुछ साल गुजर गेलइ, आउ घरेलू परिस्थिति हमरा न** जिला के एगो घटिया छोटगर गाँव में बस जाय लगी लचार कर देलकइ । घर-गिरहस्थी देखते-भालते अपन पहिलौका शोर-शराबा वला आउ बेपरवाह जिनगी के आद करके चुपचाप आह भरे बेगर नयँ रहल जा हलइ । सबसे कठिन हलइ हमरा बिलकुल एकांत में पतझड़ आउ जाड़ा के शाम गुजारे के आदी होना । दुपहर के भोजन के पहिले तक के समय तो हम कइसूँ काट ले हलिअइ - मुखिया के साथ बात करके, काम पर गाड़ी से एन्ने-ओन्ने जाके, चाहे नयका भवन के चक्कर लगाके; लेकिन जब बेर डुब्बे लगइ त हमरा बिलकुल नयँ समझ में आवइ कि हम की करूँ । अलमारी के निच्चे आउ भंडार-कक्ष में जे कुछ थोड़े संख्या में पुस्तक मिल गेले हल, ऊ सब के हम कंठस्थ कर गेलिए हल । भंडारिन (भंडार-कक्ष में रक्खल रसद के पूरा देखभाल करे वली नौकरानी) किरिलोव्ना के जे कुछ आद आ पइलइ, ऊ सब्भे कहानी कइएक तुरी सुना चुकले हल; देहाती औरतियन के गीत हमरा उदास कर दे हलइ । देशी ठर्रा अजमाके देखलिअइ, लेकिन एकरा से हमर माथा पिराय लगऽ हलइ; आउ हम ई कबूल करऽ हिअइ, कि हमरा ई बात के डर लगऽ हलइ कि कहीं हम मुसीबत के मारल पियक्कड़ नयँ बन जइअइ, मतलब बिलकुल पक्का पियक्कड़, जेकर कइएक मिसाल हमर जिला में देखाय पड़ऽ हलइ । नगीच के कोय पड़ोसी नयँ हलइ, सिवाय दु-तीन गो पक्का पियक्कड़ के, जेकर बातचीत में अधिकांश हिचकी आउ कराह रहऽ हलइ । एकांत एकरा से जादे बरदास करे लायक हलइ ।
हमरा हीं से चार विर्स्ता (1 विर्स्ता = 1.067 कि.मी.) काउंटेस ब*** के समृद्ध जागीर हलइ; लेकिन एकरा में खाली बराहिल रहऽ हलइ, आउ काउंटेस खाली एक्के तुरी अपन जागीर में भेंट देलथिन हल, अपन शादी के पहिले साल में, आउ ओहो हुआँ परी एक महिन्ना से जादे नयँ रहलथिन । लेकिन हमर एकाकीपन के दोसरा वसंत में ई अफवाह फैललइ, कि काउंटेस पति के साथ अपन गाँव में गरमी में आवे वली हथिन । वास्तव में, जून महिन्ना के शुरू में उनकन्हीं आ गेते गेलथिन । धनगर पड़ोसी के आगमन गाँववासी लोग खातिर एगो महत्त्वपूर्ण घटना होवऽ हइ । जमींदार आउ ओकर घर-बार के लोग दू महिन्ना पहिले आउ तीन साल बाद तक एकरे बारे चर्चा करते जा हइ । जाहाँ तक हम्मर संबंध हइ, त हम ई स्वीकार करऽ हिअइ कि हमर नवयुवती आउ सुंदर पड़ोसन के आगमन के समाचार हमरा पर गहरा प्रभाव डललकइ; हम उनका देखे लगी अधीरता से जल्ले लगलिअइ, आउ ओहे से उनकर आगमन के बाद पहिलौके एतवार के दुपहर के भोजन के बाद गाँव *** रवाना हो गेलिअइ ताकि दुन्नु महामहिम (Their Excellencies) के निकटतम पड़ोसी आउ अत्यंत विनम्र सेवक के रूप में खुद के उनका सामने प्रस्तुत कर सकिअइ । 
नौकर हमरा काउंट के अध्ययन-कक्ष में ले गेलइ, आउ खुद हमरा बारे रिपोर्ट करे लगी चल गेलइ । बड़का गो अध्ययन-कक्ष सब तरह के संभव ठाट-बाट के समान से सज्जल हलइ; देवाल के पास पुस्तक से भरल अलमारी सब हलइ, आउ हरेक पर काँसा के आवक्ष मूर्ति (busts) हलइ; आउ संगमरमर के अंगीठी (fireplace) के उपरे एगो बड़गर दर्पण हलइ; फर्श पर हरियर मोटगर कपड़ा बिच्छल हलइ जेकरा कालीन से ढँक्कल हलइ । अपन गरीब कोना में ठाट-बाट के आदी नयँ रहला से आउ लमगर अवधि तक दोसर के धन-दौलत नयँ देखला से हम कुछ सहम गेलिअइ आउ धड़कते दिल से काउंट के प्रतीक्षा करे लगलिअइ, जइसे कि मंत्री के प्रकट होवे के कोय प्रांतीय याचिकाकर्ता (provincial petitioner) प्रतीक्षा करऽ हइ । दरवाजा खुललइ, आउ लगभग बत्तीस बरिस के एगो सुंदर पुरुष अंदर अइलथिन । काउंट निष्कपट आउ मिलनसार मुद्रा में हमरा दने नगीच आ रहलथिन हल; हम साहस बटोरे के प्रयास कर रहलिए हल आउ खुद के परिचय देवे वला हलिअइ, लेकिन ऊ हमरा रोक देलथिन । हमन्हीं बैठ गेते गेलिअइ । उनकर मुक्त आउ प्रिय बातचीत जल्दीए हमर गँवारू लज्जा के दूर कर देलकइ; हम अपन स्वाभाविक स्थिति में आवहीं लगलिए हल कि अचानक काउंटेस अंदर अइलथिन, जेकरा से हम पहिलहूँ से जादे घबरा गेलिअइ । वास्तव में ऊ एगो सुंदरी हलथिन । काउंट हमर परचिय देलथिन; हम मुक्त आउ सहज दिखे लगी चहलिअइ, लेकिन जेतने जादे हम सहज मुद्रा अपनावे के प्रयास करिअइ, ओतने जादे हम असहज महसूस करिअइ । हमरा साथ एगो निम्मन पड़ोसी नियन व्यवहार करते आउ बिन कोय औपचारिकता बरतते, हमरा सम्हले आउ नयका परिचय के प्रति अभ्यस्त होवे खातिर समय देवे लगी, उनकन्हीं आपस में बातचीत करे लगलथिन । एहे दौरान हम कमरा में पुस्तक आउ चित्र दने दृष्टि डालते शतपथ (चहलकदमी) करे लगलिअइ । चित्रकला (पेंटिंग) के हम कोय विशेषज्ञ नयँ हिअइ, लेकिन एक चित्र हमर ध्यान आकृष्ट कइलकइ । एकरा में स्विटज़रलैंड के कोय दृश्य चित्रित हलइ; लेकिन एकरा में हमरा पेंटिंग नयँ आश्चर्यचकित कइलकइ, बल्कि ई बात से कि चित्र दू गो गोली से बिंधल हलइ, एक के बाद दोसरा गोली चलाके ।
"ई तो निम्मन निशाना हइ", काउंट तरफ मुड़के हम कहलिअइ ।
"हाँ", ऊ उत्तर देलथिन, "निशाना तो बहुत निम्मन हइ । अपनहूँ निम्मन निशानेबाज हथिन ?" ऊ बात जारी रखलथिन ।
"संतोषजनक रूप से निम्मन", हम उत्तर देलिअइ, ई बात से खुश होल कि बातचीत आखिरकार हम्मर मनपसंद विषय पर मुड़ गेलइ । "तीस कदम के दूरी पर के ताश के पत्ता पर बिन कोय चूक के निशाना लगा सकऽ हिअइ, जाहिर हइ, अपन परिचित पिस्तौल से ।"
"सच ?" बड़ी उत्सुकता के मुद्रा में काउंटेस बोललथिन; "आउ तूँ, हमर प्यारे, की तीस कदम दूर ताश के पत्ता पर निशाना लगा सकऽ हो ?"
"कभी हम अजमाके देखबइ", काउंट उत्तर देलथिन । "अपन जमाना में हमर निशाना कोय खराब नयँ हलइ; लेकिन अभी चार साल हो चुकले ह, जब हम हाथ में पिस्तौल लेलिए हल ।"
"ओह", हम टिप्पणी कइलिअइ, "तब अइसन हालत में हम बाजी लगा सकऽ हिअइ कि महामहिम बीसो कदम के दूरी पर के ताश के पत्ता पर निशाना नयँ लगा पइथिन - पिस्तौल रोज दिन के अभ्यास के माँग करऽ हइ । ई हम अपन अनुभव के आधार पर कहऽ हिअइ । हम अपन रेजिमेंट में सर्वोत्तम निशानेबाज में एक मानल जा हलिअइ । एक तुरी अइसन होलइ कि महिन्ना भर तक हम पिस्तौल हाथ में नयँ लेलिअइ, काहेकि हमर पिस्तौल सब के मरम्मत चल रहले हल; आउ अपने की सोचऽ होथिन, महामहिम ? पहिले तुरी जब हम फेर से निशाना लगावे लगलिअइ, तब लगातार चार तुरी हम पचीस कदम के दूरी पर के एगो बोतल के निशाना लगावे में चूक गेलिअइ । हमन्हीं के रेजिमेंट में घुड़सवार सेना के मजाकिया आउ विनोदी स्वभाव के कप्तान हलथिन; ऊ हुएँ हलथिन आउ हमरा से कहलथिन – ‘जानऽ हो, भाय, तोर हाथ बोतल के विरुद्ध नयँ उठतो।’ नयँ, महामहिम, अपने के ई अभ्यास के उपेक्षा नयँ करे के चाही, नयँ तो तुरतम्मे भूल जइथिन । एगो उत्तम निशानेबाज, जेकरा से हमरा मिल्ले के अवसर मिलले हल, रोज दिन निशाना लगावऽ हलइ, दुपहर के भोजन से पहिले कम से कम तीन तुरी । ई ओकर रोज के नियम हलइ, जइसे एक गिलास वोदका के ।"
काउंट आउ काउंटेस खुश हलथिन कि हम बातचीत करना शुरू कर देलिए हल ।
"आउ ऊ कइसन निशानेबाज हलइ ?" हमरा काउंट पुछलथिन ।
"अइकी अइसन, महामहिम - मसलन ऊ देखइ कि देवाल पर मक्खी बैठ गेलइ - अपने हँस्सऽ हथिन, काउंटेस? भगमान कसम, ई सच हइ । जब ऊ मक्खी के देखइ कि चिल्लाय - 'कूज़का, पिस्तौल !' आउ कूज़का लोड कइल पिस्तौल लावइ । जइसीं ऊ करइ 'धायँ !' कि मक्खी देवाल में घुसा देइ !"
"ई तो कमाल के बात हइ !" काउंट बोललथिन; "आउ ओकर नाम की हलइ ?"
"सिल्वियो, महामहिम ।"
"सिल्वियो !" अपन जगह से उछलके उठते काउंट चिल्ला उठलथिन; "अपने सिल्वियो के जानऽ हलथिन ?"
"कइसे नयँ जनतिए हल, महामहिम; हमन्हीं दुन्नु मित्र हलिअइ; ऊ हमन्हीं के रेजिमेंट में अपन भाई साथी जइसन मानल जा हलइ; लेकिन अइकी गत पाँच साल से ओकरा बारे हमरा कोय खबर नयँ हइ । त अपनहूँ महामहिम, मतलब, ओकरा जानऽ हलथिन ?"
"जानऽ हलिअइ, बहुत निम्मन से जानऽ हलिअइ । की ऊ अपने के नयँ बतइलकइ ... लेकिन नयँ; हमरा नयँ लगऽ हइ कि बतइलके होत; ऊ अपने के एगो बहुत विचित्र घटना के बारे नयँ बतइलके हल की ?"
"कहीं ऊ चमेटा के बात तो नयँ कर रहलथिन हँ, महामहिम, जे ऊ कोय तो बदमाश से बॉल नृत्य के दौरान खइलके हल ?"
"आउ ऊ अपने के ई बदमाश के नाम बतइलके हल ?"
"नयँ, महामहिम, नयँ बतइलके हल ... आह ! महामहिम", हम सच्चाई के बारे अंदाज लगइते बात जारी रखलिअइ, "क्षमा करथिन ... हम नयँ जानऽ हलिअइ ... कहीं ऊ अपनहीं तो नयँ हलथिन ? ..."
"हम खुद्दे हिअइ", अत्यंत खिन्न मुद्रा में काउंट उत्तर देलथिन, "आउ ई गोली से बिंधल चित्र हमन्हीं के अंतिम भेंट के स्मारक हइ ..."
"ओह, हमर प्यारे", काउंटेस कहलथिन, "भगमान खातिर ऊ कहानी मत बताहो; हमरा सुन्ने से भय लगत ।"
"नयँ", काउंट एतराज कइलथिन, "हम सब कुछ बतइबइ; इनका मालुम हइ कि हम कइसे इनकर मित्र के अपमानित कइलिए हल - अब इनका जन्ने देल जाय कि सिल्वियो हमरा से कइसे बदला लेलकइ ।"
काउंट एगो अरामकुरसी हमरा दने बढ़इलथिन आउ हम अत्यंत उत्सुकता से निम्नलिखित कहानी सुनलिअइ।
"पाँच साल पहिले हमर शादी होले हल । पहिला महिन्ना, honey-moon (अर्थात् मधुमास), हम हिएँ बितइलिअइ, एहे गाँव में । हमर जीवन के मधुरतम क्षण आउ एगो अत्यंत कटु स्मृति ई घर से जुड़ल हइ ।
एक तुरी शाम के हमन्हीं साथे घोड़ा पर सवार जाब करऽ हलिअइ; हमर पत्नी के घोड़ा जरी अड़ियल होवे लगलइ; ई डर गेलइ, हमरा लगाम थमा देलकइ आउ घर पैदले चल पड़लइ; हम घोड़वे पर आगू गेलिअइ । प्रांगण (अहाता) में हम एगो यात्रा के गाड़ी देखलिअइ; हमरा बतावल गेलइ कि हमर अध्ययन-कक्ष में एगो अदमी बैठल हइ, जे अपन नाम बतावे लगी नयँ चाहऽ हइ, लेकिन खाली एतने बतइलकइ कि ओकरा हमरा से काम हइ । हम ई कमरा में प्रवेश कइलिअइ आउ अन्हरवा में एगो अदमी देखलिअइ, जे धूल-धूसरित हलइ आउ ओकर दाढ़ी बढ़ल हलइ; ऊ हियाँ अंगीठी (fireplace) भिर हलइ । हम ओकरा तरफ बढ़लिअइ, ई प्रयास करते कि ओकर चेहरा-मोहरा पछान सकिअइ ।
"तूँ हमरा नयँ पछनलहो, काउंट ?" ऊ काँपते अवाज में कहलकइ ।
"सिल्वियो !" हम चिल्ला उठलिअइ, आउ हम ई स्वीकार करऽ हिअइ, कि अचानक अपन रोंगटा खड़ी होल अनुभव कइलिअइ ।
"बिलकुल सही", ऊ बात जारी रखलकइ, "गोली चलावे के हम्मर पारी बाकी हइ; हमरा अपन पिस्तौल के गोली से मुक्त करना हइ; तूँ तैयार हकऽ ?"
पिस्तौल ओकर बगल के जेभी से लटकल हलइ । हम बारह कदम नपलिअइ आउ हुआँ परी कोना में खड़ी हो गेलिअइ, आउ पत्नी के वापिस आ जाय के पहिलहीं ओकरा जल्दी से जल्दी गोली चलावे के निवेदन कइलिअइ।
ऊ जरी देरी कइलकइ - ऊ रोशनी लगी निवेदन कइलकइ । मोमबत्ती लावल गेलइ । हम दरवाजा में ताला लगा देलिअइ, केकरो अंदर आवे से मनाही के औडर दे देलिअइ आउ फेर से ओकरा गोली चलावे लगी निवेदन कइलिअइ । ऊ पिस्तौल निकसलकइ आउ निशाना सधलकइ ... हम सेकेंड गिन रहलिए हल ... हम ओकरा (पत्नी के) बारे सोच रहलिए हल ... भयंकर एक मिनट गुजर गेलइ ! सिल्वियो अपन हाथ निच्चे कर लेलकइ । "हमरा खेद हइ", ऊ कहलकइ, "कि पिस्तौल में चेरी फल के गुठली बोजल नयँ हइ ... गोली भारी हइ । हमरा लगातार प्रतीत होब करऽ हइ कि ई हमन्हीं बीच द्वन्द्वयुद्ध नयँ हइ, बल्कि हत्या -  निहत्था पर निशाना साधे के हमरा आदत नयँ । फेर से शुरू कइल जाय; पर्ची उछालल जाय आउ निर्णय कइल जाय के केकरा पहिले शूट करे के चाही ।"
हमर माथा चकराब करऽ हलइ ... हमरा लगऽ हइ, हम सहमत नयँ होलिअइ ... आखिरकार हमन्हीं एक आउ पिस्तौल के लोड कइलिअइ; दू गो पर्ची के रोल कइलिअइ; ऊ दुन्नु पर्ची के टोपी में रखलकइ, जेकरा हम कभी शूट करके छेद देलिए हल; हम फेर से पहिला नंबर निकसलिअइ ।
"तूँ तो, काउंट, तकदीर के बड़का सिकंदर हकऽ", ऊ अइसन मुसकान के साथ कहलकइ, जेकरा हम कभी नयँ भुला पइबइ । हमरा आद नयँ कि हमरा की हो गेले हल आउ कइसे ऊ हमरा अइसन करे लगी लचार कर देलके हल ... लेकिन - हम गोली चललिअइ, जे ई चित्र में जाके लगलइ । (काउंट गोली से छेद कइल चित्र के तरफ अँगुरी से इशारा कइलथिन; चेहरा उनकर आग नियन जल रहले हल; काउंटेस के चेहरा उनकर शाल से भी जादे उज्जर पड़ गेले हल - हम चीख नयँ रोक सकलिअइ ।)
"हम गोली चलइलिअइ", काउंट बात जारी रखलथिन, "आउ भगमान के किरपा से हमर निशाना चूक गेलइ; तब सिल्वियो ... (तखने ऊ, वास्तव में, भयंकर हलइ) सिल्वियो हमरा पर निशाना साधे लगलइ । अचानक दरवाजा खुललइ, माशा दौड़के अंदर आवऽ हइ आउ चीखते हमर गरदन से लिपट जा हइ । ओकर उपस्थिति से हमर पूरा साहस वापिस आ गेलइ ।
"प्यारी", हम ओकरा कहलिअइ, "तोरा की वास्तव में नयँ देखाय दे हको कि हमन्हीं मजाक करब करऽ हिअइ?"
तूँ केतना भयभीत हो गेलऽ ह ! जा, एक गिलास पानी पी लऽ आउ हमन्हीं भिर आवऽ; हम तोरा अपन पुरनका मित्र आउ साथी से तोर परिचय करइबो ।" माशा के विश्वास नयँ होब करऽ हलइ ।
"बताथिन, की हमर पति सच कहब करऽ हथिन ?" ऊ भयंकर सिल्वियो तरफ मुड़के बोललइ, "की ई बात सच हइ कि अपने दुन्नु मजाक कर रहलथिन हँ ?"
"ऊ हमेशे मजाक करऽ हथुन, काउंटेस", सिल्वियो ओकरा उत्तर देलकइ, "एक तुरी मजाक में हमरा एक थप्पड़ लगइलथुन, मजाक में अइकी हमर ई टोपी के गोली से छेद देलथुन, मजाक में अभी हमरा पर चलावल गोली के निशाना चूक गेलथुन; आउ अब हमरा मजाक करे के इच्छा हइ ..."
एतना कहके ऊ हमरा पर निशाना सधलकइ ... ओकरे उपस्थिति में ! माशा तो लपकके ओकर गोड़ पर गिर पड़लइ ।
"उठ, माशा, ई तो शरम के बात हउ !" क्रोधावेश में हम चीख पड़लिअइ; "आउ अपने, महाशय, ई बेचारी औरत के सताना बंद करथिन कि नयँ ? अपने गोली चलइथिन कि नयँ ?"
"नयँ चलइबो", सिल्वियो उत्तर देलकइ, "हम संतुष्ट हिअइ - हम तोर बेचैनी आउ भय देख लेलियो; हम तोरा अपना दने गोली चलावे लगी लचार कर देलियो; एतना हमरा लगी काफी हको । हमरा आद रखबऽ । हम तोरा तोर अंतःकरण पर छोड़ दे हियो ।" हियाँ परी ऊ निकसहीं वला हलइ, लेकिन दरवाजा पर रुक गेलइ, हमर चित्र पर एक नजर डललकइ, आउ लगभग बिन कोय निशाना साधले ओकरा पर गोली चला देलकइ, आउ गायब हो गेलइ । पत्नी मूर्छित पड़ल हलइ; नौकर सब ओकरा रोके के हिम्मत नयँ कइलकइ आउ भय से ओकरा दने तक रहले हल; ऊ बाहर निकसके ड्योढ़ी पर गेलइ, कोचवान के पुकरलकइ आउ हमरा सम्हले के पहिलहीं चल गेलइ ।"
काउंट चुप हो गेलथिन । ई तरह हमरा ऊ कहानी के अंत के पता चललइ, जेकर आरंभ हमर मस्तिष्क पर कभी गहरा छाप छोड़लके हल । एकर नायक (हीरो) से फेर हमरा भेंट नयँ होलइ । कहल जा हइ कि सिल्वियो अलिक्सान्द्र इप्सिलान्ती [4] के विद्रोह के समय एतायरियावादी (Hetairists) के एक दस्ता के कमांडर हलइ आउ स्कुल्यानी [4] के पास के युद्ध में मारल गेलइ ।

टिप्पणी:
[1] बरातिन्स्की - पुश्किन के मित्र कवि येवगेनी अब्रामोविच बरातिन्सकी (1800-1844) के 1828 में प्रकाशित कविता "Бал" (बॉल-नृत्य) से उद्धृत ।
[2] अलिक्सांद्र बेस्तुझेव-मार्लिन्स्की (1797-1837) के "Вечер на бивуаке" (पड़ाव के एक शाम) नामक कहानी से उद्धृत । रूस में सन् 1825 के दिसंबरवादी विद्रोह के एक प्रतिभागी अलिक्सांद्र बेस्तुझेव-मार्लिन्स्की के नाम के उल्लेख सेंसरशिप के कारण पुश्किन नयँ कइलथिन, लेकिन मार्लिन्स्की के कहानी से उद्धरण देके ई संकेत देलथिन कि उनकर सहानुभूति दिसंबरवादी लोग के साथ हलइ ।
[3] देनिस दविदोव (1784-1839), कवि आउ सैनिक विषय के लेखक, पुश्किन के एगो निम्मन मित्र हलथिन । सन् 1812 में दविदोव एगो सैनिक समर्थक दल के नेतृत्व कइलथिन आउ कृषक समर्थक लोग के साथ-साथ आक्रमणकारी फ्रांसीसी सेना के विरुद्ध लड़ाई लड़लथिन । बुर्त्सोव भी 1812 के देशभक्ति युद्ध (Patriotic War) में भाग लेलके हल, जेकर उल्लेख दविदोव के कविता में अकसर मिल्लऽ हइ ।
[4] अलिक्सान्द्र इप्सिलान्ती - रूसी सेना में एगो जेनरल (सेनापति) । सन् 1820 में एतायरिया के कमांडर हलइ । एतायरिया एगो गुप्त क्रांतिकारी दल हलइ, जे तुर्की आक्रामक (हमलावर) के कब्जा से यूनान (ग्रीस) के मुक्ति देलावे खातिर लड़ले हल । प्रुत नदी के किनारे अवस्थित स्कुल्यानी के नगीच ओकर कंपनी तुर्की सेना द्वारा 29 जून 1821 के पराजित हो गेलइ ।